scriptnoise or air pollution caused by firecrackers in rajasthan | पटाखों से ध्वनि या वायु प्रदूषण फैलाया तो खैर नहीं, 13 जिलों पर रहेगी नजर | Patrika News

पटाखों से ध्वनि या वायु प्रदूषण फैलाया तो खैर नहीं, 13 जिलों पर रहेगी नजर

राज्य सरकार ने राजस्थान में पटाखे बेचने और चलाने की अनुमति तो दे दी है, लेकिन केवल ग्रीन पटाखे ही चलाने होंगे।

जयपुर

Published: October 29, 2021 07:16:06 pm

जयपुर। राज्य सरकार ने राजस्थान में पटाखे बेचने और चलाने की अनुमति तो दे दी है, लेकिन केवल ग्रीन पटाखे ही चलाने होंगे। यदि पटाखा चलाने के दौरान ध्वनि प्रदूषण या वायु प्रदूषण फैला तो खैर नहीं। राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सभी जिला कलक्टरों को पटाखों से उत्पन्न ध्वनि प्रदूषण करने वाले पटाखों को प्रतिबंधित करने के सम्बंध में आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए हैं। बड़ी बात यह है कि दिलावी से पहले और दिवाली वाले दिन ध्वनि अनुश्रवण एव वायु प्रदूषण स्तर की जांच की जाएगी। राजस्थान में 13 जिलों पर विशेष नजर रहेगी, जहां पटाखें बड़ी संख्या में चलाए जाते हैं।
पटाखों से ध्वनि या वायु प्रदूषण फैलाया तो खैर नहीं, 13 जिलों पर रहेगी नजर
सुप्रीम कोर्ट का हवाला
प्रदूषण नियंत्रण मंडल सदस्य सचिव आनन्द मोहन ने बताया कि दिवाली पर प्रदेश में नागरीक रात में पटाखों के अलावा जमकर आतिशबाजी करते हैं, जिससे ना केवल ध्वनि प्रदूषण होता है बल्कि वायु प्रदूषण भी फैलता है। इस सम्बन्ध में सुप्रीम कोर्ट ने 18 जुलाई, 2005 को निर्णय पारित किया था कि ध्वनि प्रदूषण करने वाले पटाखों को प्रतिबंधित किया गया है।
इन 13 जिलों में होगी जांच
राजस्थान मण्डल कार्यालय यथा अलवर, बालोतरा, भरतपुर, भीलवाड़ा, भिवाड़ी, बीकानेर, चित्तौड़गढ, जोधपुर, किशनगढ, कोटा, पाली, सीकर, उदयपुर और जयपुर शहर में 29 अक्टूबर व 4 नवम्बर को ध्वनि अनुश्रवण एव वायु प्रदूषण स्तर की जांच की जाएगी। राज्य मण्डल द्वारा वायु की गुणवत्ता की जांच क लिए जयपुर, उदयपुर, कोटा, जोधपुर व अलवर में वायु परीक्षण करने के निर्देश भी जारी किए हैं।
यह अनुमति दी थी
अब दिवाली, गुरुपर्व, छठ पर्व, क्रिस्मस और न्यू ईयर पर जमकर आतिशबाजी की जा सकेगी। इस बार भी सरकार ने केवल ग्रीन पटाखे चलाने की अनुमित दी है। जिस शहर में एयर क्वालिटी इंडेक्स POOR या उससे खराब है वहां उस दिन आतिशबाजी चलाने पर रोक रहेगी। एनसीआर क्षेत्र में आतिशबाजी को बेचने व चलाने पर प्रतिबंध रहेगा। ग्रीन आतिशबाजी की पहचान प्रत्येक आतिशबाजी के बाॅक्स पर नीरी द्वारा जारी किए गए QR कोड को स्कैन करके की जा सकेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

कोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरPM Modi आज राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं के साथ करेंगे बातचीत, एक लाख रुपए के साथ मिलेगा डिजिटल सर्टिफिकेटUP चुनाव में अब तक 6705 KG ड्रग्स, 5 लाख लीटर शराब पकड़ी गईCovid-19 Update: देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 3.33 लाख नए मामले, 525 मरीजों की गई जानभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्रUP TET Exam 2021 : एसटीएफ ने तोड़ी साल्वर गैंग की कमर, मेरठ में तीन साल्वर गिरफ्तारराजस्थान में ड्रोन युग ...अब जवानों की तरह मुस्दैैत नहीं, विकास का खाका भी खींचेगा ड्रोनकोरोना की संशोधित गाइडलाइन आज से लागू, शादियों में 100 लोगों के आने की छूट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.