युवा-कांग्रेस,एनएसयूआई में चुनाव नहीं कराने पर मंथन, पार्टी में शीर्ष स्तर पर हो रही चर्चा

Firoz Khan Shaifi | Publish: Jun, 16 2019 12:43:59 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

एनएसयूआई और युवा कांग्रेस में पूर्व में भी सीधे साक्षात्कार के आधार पर अध्यक्ष मनोनीत किया जाता था

जयपुर। कांग्रेस के हरावल दस्तों के रूप में विख्यात युवा कांग्रेस और छात्र संगठन एनएसयूआई में चुनाव के जरिए अध्यक्षों और कार्यकारिणी के चुनने की चली आ रही परंपरा अब ब्रेक लग लकता है। दोनों ही अग्रिम संगठनों में चुनाव की जगह योग्य कार्यकर्ताओं को साक्षात्कार के जरिए सीधे मनोनीत करने की प्रक्रिया अमल में लाई जा सकती है।

माना जा रहा है कि भविष्य में एनएसयूआई और युवा कांग्रेस में चुनाव नहीं कराने को लेकर दिल्ली में शीर्ष स्तर पर मंथन चल रहा है। हाल ही में कई राज्यों में चुनाव की बजाए पदाधिकारियों को मनोनीत करने से भी इन चर्चाओं को और बल मिला है कि पार्टी इन संगठनों में चुनाव के पक्ष में नहीं है।

पार्टी सूत्रों की माने तो हाल ही में दिल्ली में हुई कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक में इस पर चर्चा हुई है जिस पर पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता एकमत हैं। बताया जाता है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विदेश दौरे से लौटने के बाद इस मामले को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष रखा जाएगा। राहुल गांधी की मंजूरी के बाद इन दोनों ही संगठनों चुनाव की बजाए साक्षात्कार के आधार पर योग्य नेताओं को सीधे ही मनोनीत करने का फॉर्मूला लागू किया जाएगा।


पहले भी होते थे मनोनीत
दरअसल एनएसयूआई और युवा कांग्रेस में पूर्व में भी सीधे योग्य नेताओं को साक्षात्कार के आधार पर अध्यक्ष मनोनीत किया जाता था। इसके बाद अध्यक्ष अपने विवेक से अपनी कार्यकारिणी और जिलाध्यक्षों का मनोनयन करता था। राहुल गांधी के अग्रिम संगठनों का प्रभारी बनने के बाद उन्होंने इन दोनों ही संगठनों में लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत चुनाव कराने का फॉर्मूला लागू किया था। जिसके बाद से दोनों संगठनों में चुनावों के जरिए पदाधिकारियों और अध्यक्षों का चुनाव होता था। हालांकि कांग्रेस पार्टी का एक धड़ा शुरू से ही इन संगठनों में चुनाव कराने के पक्ष में नहीं रहा।


चुनाव में धनबल का प्रयोग
पार्टी नेताओं की माने तो एनएसयूआई और युवा कांग्रेस में चुनावों में जिस प्रकार धन बल का प्रयोग चुनाव लड़ने वाले नेताओं की ओर से किया जाता है, उससे जनता में अच्छा मैसेज नहीं जाता है, यही नहीं बल्कि पार्टी के प्रति समर्पित कार्यकर्ता धन के अभाव में चुनाव नहीं लड़ पाते और पार्टी से दूर हो जाते हैं।

ये नेता निकले दोनों संगठनों से
एनसएसयूआई और युवा कांग्रेस की बात करें तो दोनों ही संगठनों ने कई बड़े चेहरे कांग्रेस पार्टी को दिए हैं। इनमें गुलाम नबीं आजाद, अंबिका सोनी, मुकुल वासनिक, आनंद शर्मा, रणदीप सिंह सुरेजवाला, मनीष तिवारी, राजीव सातव, नदीम जावेद, अशोक गहलोत, तारीक अनवर जैसे बड़े नेता इन दोनों संगठनों की ही देन हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned