अब मीटर से पकड़ेंगे बिजली चोरी

बिजली चोरी व छीजत का लगाएंगे पता

By: Bhavnesh Gupta

Updated: 10 Sep 2021, 08:22 PM IST

जयपुर। बिजली चोरी और छीजत का पता लगाने के लिए अब किसी तरह का अडंगे का बहाना नहीं चलेगा और न ही पूरे क्षेत्र में तलाश की झंझट होगी। प्रदेश के सभी शहरी इलाकों (म्यूनिसिपल एरिया) में ट्रांसफार्मर पर अत्याधुनिक मीटर लगाना शुरू कर दिया गया है। इन ट्रांसफार्मर से सप्लाई होने वाली बिजली और उपभोक्ताओं द्वारा उपयोग हुई विद्युत खपत का अंतर पता चलेगा। विद्युत यूनिट में ज्यादा अंतर आने पर चोरी की स्थिति पता चलेगी। मीटर के जरिए आॅनलाइन मॉनिटरिंग की जा रही है। अभी 67030 मीटर लगाए जा रहे हैं, जिन पर 187 करोड़ रुपए लागत आएगी। तीनों बिजली कंपनियों ने इस पर काम तेज कर दिया है। पहले उन इलाकों में लगाए जा रहे हैं, जहां बिजली चोरी व छीजत का आंकड़ा ज्यादा है। गौरतलब है कि नेताओं की दबाव के कारण बिजली चोरी करने वालों पर प्रभावी एक्शन नहीं हो पा रहा है। अभियंता भी इसी की आड़ में कार्रवाई करने से बचते रहे हैं।

विद्युत लॉस की स्थिति
वर्ष———जयपुर डिस्कॉम——अजमेर डिस्कॉम—जोधपुर डिस्कॉम
2017-18 — 20.49 — 19.76 — 19.33
2018-19 — 20.15 — 18.26 — 21.99
2019-20 — 18.35 — 14.48 — 20.94
2020-21 — 18.06 — 12.89 — 21.64
(औसत छीजत प्रतिशत में है)

76 प्रतिशत मामलों में बिजली चोरी करते मिले
-2,36,971 जगह चैकिंग की गई
-1,81,537 जगह चोरी सामने आई
-461.50 लाख रुपए पेनल्टी का आकलन
-137.75 लाख रुपए वसूले गए
-29731 मामलों में एफआईआर दर्ज की गई
(तीनों डिस्कॉम में जून 2020 से फरवरी 2021 तक के बीच चैकिंग की स्थिति)

किस डिस्कॉम में कितने लगेंगे मीटर
-41 हजार ट्रांसफार्मर मीटर लगने हैं जयपुर डिस्कॉम में
-18230 मीटर अजमेर डिस्कॉम में लगेंगे
-7800 मीटर लगने हैं जोधपुर डिस्कॉम के शहरी इलाकों में

Bhavnesh Gupta Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned