अब कैदियों को संक्रमण से बचाने पर ध्यान, जेलों में बनेंगे आइसोलेशन वार्ड

जयपुर. कोरोना संक्रमण के विस्तार की आशंकाओं को देखते हुए राज्य सरकार प्रदेश की जेलों में सजा काट रहे कैदियों और मुकदमों का सामना कर रहे बंदियों के लिए प्रत्येक जेल में आइसोलेशन वार्ड बनाएगी। इसके अलावा प्रत्येक जिले में 500—500 बिस्तरों की क्षमता वाले वार्ड भी तत्काल बनाए जाएंगे।

Subhash Raj

20 Mar 2020, 10:01 PM IST

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गहलोत ने कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति से निपटने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सभी जिला कलेक्टरों, पुलिस अधीक्षकों एवं चिकित्सा अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में कहा कि दो दिन पहले तक प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर स्थिति नियंत्रण में थी, लेकिन संक्रमण के कुछ और मामले सामने आने के बाद हमारी चिंताएं बढ़ गई हैं। ऐसे में सभी सरकारी नुमाइंदों, जनप्रतिनिधियों, धर्मगुरूओं सहित सभी प्रदेशवासियों की जिम्मेदारी है कि वे कोरोना को हराने के लिए पूरी सजगता एवं सतर्कता के साथ इस चुनौती का सामना करें। झुंझुनूं एवं भीलवाड़ा में कोरोना पॉजिटिव रोगियों के सम्पर्क में आए हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग, होम आइसोलेशन, धारा 144 तथा संबंधित क्षेत्रों में कर्फ्यू की कड़ाई से पालना के लिए कहा। कैदियों में कोरोना का संक्रमण नहीं फैले, इसे देखते हुए हर जेल में एक आईसोलेशन सेल बनाई जाए। साथ ही हर नए कैदी को जेल ले जाने से पहले स्क्रीनिंग की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि आगामी एक माह में आयोजित होने वाले मेलों, शोभायात्राओं, जुलूसों सहित अन्य आयोजनों जिनमें भीड़ एकत्रित होती हो, उन्हें स्थगित करवाया जाए। साथ ही इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि बाहर से आने वाले लोगों को रोका जा सके। सरकारी की एडवाइजरी का सख्ती से पालना करवाया जाए। सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचनाएं फैलाने वाले लोगों पर भी कार्रवाई की जाए ताकि लोग अफवाहों से बचे रहें। हर जिले में 500 व्यक्तियों के आइसोलेशन के लिए व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

Subhash Raj
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned