अब समय है कहने का 'स्टार्ट-अपÓ

Ankita Sharma

Publish: Oct, 13 2018 03:10:52 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India

नवरात्र चल रहे हैं और मां दुर्गा की आराधना देशभर के लगभग हर कोने में हो रही है। वहीं सुख-समृद्धि के लिए मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है, फिर भी आखिर क्या कारण है कि विकास की गाड़ी में महिलाओं की हिस्सेदारी नाममात्र की है। न उन्हें दफ्तरों में उन्नति के समान अवसर मिल पाते हैं, न ही उद्योंगों को शुरू करने का उचित माहौल। शायद यही कारण है कि देश में महिला उद्योमियों की संख्या मात्र चौदह प्रतिशत है। एक महिला जो मल्टी टासकर कही जाती है, जो घर को भी संभालती है, दफ्तर की जिम्मेदारियों को भी बखूबी निभा लेती है, साथ ही रिश्तेदारों और फ्रेंड्स के बीच भी समंजस रखती है। फिर भी आखिर क्या कारण है कि वो खुद का उद्योग शुरू नहीं पाती या स्टार्टअप्स में उसकी भागीदारी कम रहती है

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned