अब आलू निकालेगा दम

रुला रहा प्याज, अब आलू निकालेगा दम
प्याज के बाद अब बढ़ रही आलू की कीमत
बिगड़ा किचन का स्वाद
बारिश से बढ़ाई आलू की कीमत

By: Rakhi Hajela

Published: 03 Dec 2019, 04:21 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

प्याज की आसमान छू रही कीमत पहले से ही किचन का स्वाद बिगाड़ कर रखा था। अब आलू के अचानक भाव बढऩे से थाली स्वाद खराब हो रहा है। पडरौना, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, राउरकेला में लोगों की जेबें ढीली होने से आमजन में असंतोष बढ़ रहा है। उधर, मंडी में दो दिन में ही आलू की कीमत में करीब दस रुपए से अधिक की बढ़ोतरी हो गई है। हरी सब्जी के दाम बढऩे पर प्याज और आलू ही आम लोगों को राहत दिलाते हैं पर इनका दाम भी आसमान छूने से रसोई का बजट बिगड़ गया है। प्याज व आलू के बिना कोई भी सब्जी नहीं बन पाती है ऐसे में लोगों की चिंता बढऩे लगी है।
मौसमी सब्जियों के महंगे होने पर भी आम लोगों की थाली में आलू और प्याज दिखाई देता है, इसीलिए आलू को सब्जियों का राजा कहा जाता है। बीते कुछ महीनों से प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं। इसका भाव 80 से 90 रुपए तक हो गया है। इसकी कीमतों में हुई बढ़ोत्तरी से लोग पहले परेशान हैं। ऐसे में सब्जियों का राजा आलू के तेवर भी लाल हो गए हैं। पुराना आलू 30 रुपए और नया आलू 35 रुपए से अधिक के भाव बिका। हालांकिए सोमवार को मंडी में नरमी देखी गई, जिससे पुराना आलू 25 रुपए और नया आलू 30 से 35 रुपए बिका।
बारिश ने बढ़ाई आलू की कीमत
आलू व्यवसायियों की माने तो करीब एक सप्ताह पहले पुराने आलू का थोक मूल्य 14 सौ रुपए व नया आलू 2200 रुपए क्विंटल था। जिसे फुटकर बाजार में पुराना आलू 15 से 20 रुपए व नया आलू 25 से 30 रुपए में व्यवसायी बेच रहे थे लेकिन रविवार से अचानक इनके भाव बढ़ गए। थोक में पुराना आलू 1800 रुपए क्विंटल और नया आलू दो हजार रुपए क्विंटल हो गया। थोक व्यवसायियों का कहना है कि पुराना आलू खत्म हो गया है। पिछले वर्ष दीपावली से पहले बाजार में नए आलू, प्याज और लहसुन आ गए थे, लेकिन इस वर्ष फसल तैयार होने में देरी हुई है। इसके अलावा पंजाब, कन्नौज और फर्रुखाबाद आदि सर्वाधिक उत्पादन होने वाले स्थानों पर बारिश होने से बाजारों में आलू नही आया। इसके वजह से आलू की कीमतें बढ़ रही हैं।

नवंबर की शुरुआत में हरी सब्जियों की कीमत 30 से 40 रुपए प्रति किलो थी जो सप्ताहभर के अंदर ही 10 से 20 रुपए ऊपर जा चुकी है। बाजार में बरबट्टी 40 से 50 रुपए, खीरा 20 रुपए, मूली 15 से 20 रुपए, करैला 40 से 50 रुपए, कोहड़ा 15 रुपए, कुंदरु 30 से 40 रुपए, भिंडी 40 से 50 रुपए, टमाटर 30 से 40 रुपए, कद्दू 15 से 20 रुपए बिक रहा है। ऐसे में लोगों को आलू और प्याज से ही राहत मिल सकती, पर इनकी कीमत भी आसमान छूने लगी है। लोगों का कहना है कि आलू प्याज के दाम पर नियंत्रण के लिए केंद्र व राज्य सरकार को पहल करनी चाहिए। जिस तरह अन्य सामाग्रियों में सब्सिडी देकर लोगों को कम कीमत पर सामान मुहैया कराया जा रहा हैं वैसे ही सभी क्षेत्रों में राहत देने के लिए कदम उठाने की जरूरत है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned