कोटा में बच्चों की मौत के बाद अब ये सब हो रहा है...

Now this is happening after the death of children in Kota ..

By: JAYANT SHARMA

Updated: 03 Jan 2020, 11:57 AM IST

जयपुर JK loan hospital kota कोटा में बच्चों की मौत के बाद पूरे देश में कोटा शहर की बदनामी हो रही है। दिल्ली, उत्तर प्रदेश और अन्य जगहों से राजनेता इस मामले में लगातार सीएम गहलोत की खिंचाई कर रहे हैं। इस बीच कोटा में आज चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा पहुंच रहे हैं और साथ ही केंद्र से आ रही विशेष टीम भी लगातार हो रही इन मौतों के लिए आ रही है। गौतरलब है कि कोटा में सिर्फ तीस दिन में ही सौ से भी ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है और मौतों का यह आंकड़ा और बढ़ने का डर भी है।

निगम की टीम पहुंची, लगातार सफाई
कोटा में आज (Centrel Government) केंद्र सरकार की टीम और चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के आने के कारण अस्पताल और उसके आसपास निगम की टीम सफाई में जुट गई। कचरे के ढेरों को हटा दिया गया और अन्य जगहों पर सफाई कर दी गई। लोगों का कहना था कि इस तरह से अगर हर रोज सफाई होती तो शायद संक्रमण या अन्य कारणों से होने वाली बच्चों की मौतों को काफी हद तक कम किया जा सकता था।


सौ में से जीरों नंबर मिले थे जांच में अस्पताल को
कोटा में करीब नौ से दस महीने पहले केंद्र से एक टीम जांच और अन्य कामों को जांचने के लिए आई थी। टीम की जांच मे कई पैरामीटर थे जिनमें से किसी मे भी कोटा का जेकेलोन अस्पताल खरा नहीं उतरा। यही कारण रहा था कि टीम ने अपनी जांच में कोटा को सौ मे से दस नंबर दिए थे। उसके बाद भी हालात नहीं सुधरे। अस्पताल अधीक्षक और अन्य स्टाफ ने हालात को सुधारने का प्रयास नहीं किया। इसका खामियाजा यह रहा कि गुजरे साल के अंत तक कोटा के जेके लोन अस्पताल में नौ सौ से भी ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है।

इस साल सर्दी भी ज्याद, मौतों के कारणों में यह भी
चिकित्सकों और अन्य स्टाफ का कहना है कि इस साल सर्दी भी पिछले सालों की तुलना में ज्यादा होने के कारण भी बच्चों की बीमारी और संक्रमण बढ़ा है। इस कारण से भी बच्चों की मौत हुई है। जेके लोन अस्पताल में भवन और वार्डों के हालात भी सही नहीं हैं। टूटी खिड़कियां और खराब उपकरण लगातार जान ले रहे हैं।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned