इंजीनियर्स डे पर जेईएन ने परेशानी के साथ जताया विरोध

देशभर में 15 सितम्बर को 'भारत रत्न' विश्वेश्वरैया ( 'Bharat Ratna' Visvesvaraya ) के जन्मदिन को अभियंता दिवस ( Engineer's Day ) के रूप में मनाया जा रहा है...

By: Ashish

Updated: 15 Sep 2020, 05:44 PM IST

जयपुर
Engineer's Day : देशभर में 15 सितम्बर को 'भारत रत्न' विश्वेश्वरैया ( 'Bharat Ratna' Visvesvaraya ) के जन्मदिन को अभियंता दिवस ( Engineer's Day ) के रूप में मनाया जा रहा है, वहीं राजस्थान का अभियंता वर्ग अपने साथ हो रही नाइंसाफी के विरोध में ट्विटर पर जुटा रहा। अभियंताओं की ओर से हैशटेग जेईएन_माँगे_न्याय ( #JEN_Mange_Nayya ) के साथ इतने ट्ववीट कर अपनी मांग और पीड़ा को जताया। इतने ट्ववीट किए गए कि यह राजस्थान में ट्रेंडिंग में तीसरे नंबर पर रहा।
राजस्थान इंजीनियर एकता मंच के प्रदेश अध्यक्ष नंदराम गुर्जर का कहना है कि चाहे कोरोना संकट बना हुआ हो या अन्य कोई विपत्ति, राजस्थान के अभियंता वर्ग ने अपनी जान की परवाह न करते हुए अपना कर्तव्य निभा सेवा की है। बुरे समय में भी बिजली पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं प्रदेश की जनता को निर्बाध रूप से मुहैया करवाई गई हैं। गुर्जर का कहना है कि पूरे देश में राजस्थान के जेईएन की वेतन शृंखला सबसे कम है। छठे वेतन आयोग के अनुसार जहां पूरे भारत में जेईएन की 'ग्रेड पे 4800' है, वहीं, राजस्थान के अभियंताओं को इससे दो ग्रेड नीचे 'ग्रेड पे 3600' ही मिल रही है। जेईएन वर्ग इस वेतन विसंगति को दूर करवाने के लिए पिछले करीब 10 साल से संघर्षरत है। सामंत कमेटी के समक्ष भी जेईएन अपनी समस्या बता चुके और तुलनात्मक रूप से राजस्थान के जेईएन की स्थिति विभिन्न यूनियन और एसोसिएशन के माध्यम से सरकार को भी बता चुके हैं लेकिन न ही सामंत कमेटी की रिपोर्ट सार्वजनिक की गई है और न ही जेईएन की ग्रेड पे बढ़ाई गई है। इससे जेईएन वर्ग में असंतोष है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned