scriptOcean-exploring robot could search for lost shipwrecks | समुद्र की अथाह गहराई में जहाजों का मलबा तलाश रहा ह्यूमनॉइड रोबोट | Patrika News

समुद्र की अथाह गहराई में जहाजों का मलबा तलाश रहा ह्यूमनॉइड रोबोट

मानव गोताखोर जैसा: पानी के भीतर 1000 मीटर तक जा सकता है

जयपुर

Published: August 01, 2022 12:10:52 am

नई दिल्ली. अमरीका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने ह्यूमनॉइड रोबोट 'ओशनवनके' बनाया है। यह टूटे हुए जहाज के मलबे को समुद्र के भीतर उस गहराई तक खोजने में सक्षम है, जहां मनुष्य का पहुंचना संभव नहीं होता। 'ओशनवनके' मानव गोताखोर जैसा लगता है, जिसका चेहरा, भुजाएं, हाथ और 3डी विजन है। इसकी दोनों आंखों में लगे कैमरे पानी के भीतर की दुनिया को कैद करते हैं। रोबोट के पिछले हिस्से में कंप्यूटर और 8 मल्टी-डायरेक्शनल थ्रस्टर्स हैं, जो इसे डूबे हुए जहाजों तक पहुंचने में मदद करते हैं।
समुद्र की अथाह गहराई में जहाजों का मलबा तलाश रहा रोबोट 'ओशनवनके'
समुद्र की अथाह गहराई में जहाजों का मलबा तलाश रहा रोबोट 'ओशनवनके'
वैज्ञानिकों को ऐसे आया था विचार
वर्ष 2014 में प्रवाल भित्तियों और जहाजों के मलबे को खोजने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने रोबोट बनाने के बारे में सोचा। इसी मकसद के साथ 2016 में कृत्रिम बुद्धिमत्ता, उन्नत रोबोटिक्स और टच-आधारित प्रतिक्रिया प्रणाली से लैस 'ओशनवन' बनाया। 'ओशनवन' समुद्र में 200 मीटर की गहराई तक जा सकता था जबकि इसकी अगली पीढ़ी 'ओशनवनके' की क्षमता 1000 मीटर है। ऐसा पहली बार है कि कोई रोबोट समुद्र की इतनी गहराई में जाकर इंसानों को वर्चुअली उसी माहौल का एहसास करा सकता है।
ऑपरेटर महसूस करते हैं पानी की गहराई
जब पानी के बाहर से ही कोई ऑपरेटर 'ओशनवनके' को निर्देश देता है तो टच-आधारित प्रतिक्रिया प्रणाली पानी के दबाव के साथ-साथ उसे अवशेषों को छूने का एहसास कराती है। रोबोट लगभग 5 फीट लंबा है और यह किसी वस्तु को तोड़े बिना उसे सावधानी से संभालने में समर्थ है।

अतीत के अवशेषों को खोज निकाला
वैज्ञानिकों ने पिछले साल से रोबोट को समुद्री यात्रा पर भेजना शुरू कर दिया था। यह अंडरवॉटर रोबोट अब तक डूबे हुए बीचक्राफ्ट बैरॉन एफ-जीडीपीवी विमान, इतालवी स्टीमशिप ले फ्रांसेस्को क्रिस्पी, द्वितीय विश्व युद्ध का पी-38 लाइटनिंग एयरक्राफ्ट और ले प्रोती नामक पनडुब्बी के अवशेषों की खोज कर चुका है। वैज्ञानिकों का अगला मिशन पेरू और बोलीविया की सीमा पर टिटिकाका झील में डूबी हुई स्टीमबोट का पता लगाना है।
ओशनवन से ऐसे अलग

  1. तेल और स्प्रिंग से हाथों को अपग्रेड किया गया है।
  2. इसे दो नए तरह के हाथ भी मिले हैं।
  3. यह बड़ी भुजाओं और सिर को अब ज्यादा हिला सकता है।
  4. विशेष फोम का प्रयोग कर रोबोट को बदला गया है ताकि गहराई में पानी के दबाव का मुकाबला कर सके।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar News: तेज प्रताप भी बन सकते हैं मंत्री, बिहार में 16 अगस्त को मंत्रिमंडल विस्तारBilkis Bano Gang Rape: आजीवन कारावास की सजा काट रहे सभी 11 दोषी रिहा, राज्य सरकार की माफी योजना के तहत जेल से आए बाहरIndependence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.