अफसर की गाड़ी स्टार्ट, उधर माफिया तक पहुंच जाती है खबर

थानों के सामने से गुजरते हैं बजरी के वाहन

By: jagdish paraliya

Updated: 09 Jun 2020, 05:10 PM IST

भीलवाड़ा. बजरी माफिया का नेटवर्क इतना मजबूत है कि पल-पल की खबर रखते हैं। खान विभाग के अधिकारी जैसे ही जांच के लिए दफ्तर से गाड़ी रवाना करते हैं, सूचना माफि या तक पहुंच जाती है। ऐसे में उस रूट पर सब अलर्ट हो जाते हैं।
बजरी माफिया पहले भी पुलिस को बंधक बनाने व अधिकारियों से धक्का -मुक्की का दुस्साहस कर चुके हैं। सख्त कार्रवाई नहीं होने से बजरी माफिया बेलगाम हो रहे हैं। थानों के बाहर से बजरी भरे ट्रैक्टर-ट्रक गुजरते हैं। कई दफा पुलिस की मिलीभगत भी सामने आती है।

ऐसे काम करते है माफि या
ट्रैक्टर के नदी में जाने से लेकर बजरी खाली होने तक आगे-पीछे करते हैं निगरानी।
सोशल मीडिया ग्रुप से दी जाती है सबको सूचना, मंगरोप में 200 से ज्यादा के खिलाफ दर्ज हुआ था मुकदमा।
जेसीबी से रात में भरते हैं ट्रैक्टर। ट्रेलर से भेजते हैं बाहर।
जहाजपुर के बनास नदी क्षेत्र के माफि या बजरी कट्टों में पैक कर मुंबई, दिल्ली भेज रहे हैं।
माफि या ने समूह बना रखे हैं। इनकी मंथली स्थानीय स्तर पर जाती है, इसलिए प्रभावी कार्रवाई नहीं होती।

पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठ चुके हैं।
25 -25 बॉर्डर होमगार्ड दिए थे
खान विभाग ने बजरी पर अंकुश के लिए सभी जिलों को 25-25 बॉर्डर होमगार्ड दिए थे। आए दिन बजरी माफि या के हमले हो रहे थे। खान विभाग के अधिकारियों के आग्रह पर बॉर्डर होमगार्ड भेजे गए। इसका अभी पूरा फ ायदा नहीं मिल पाया।
बजरी माफिया पहले भी कर चुके हैं हमला
३० जनवरी २०१९: अवैध बजरी दोहन की सूचना पर गए सवाईपुर चौकी के तत्कालीन प्रभारी रामकिशोर से माफिया ने धक्का-मुक्की कर वर्दी फाड़ दी।
१७ मार्च २०१९: श्रीपुरा में कोटड़ी के तत्कालीन एसडीएम से माफिया ने धक्का-मुक्की की। माफिया ने रीठ क्षेत्र में भी एसडीएम के पीछे जेसीबी दौड़ाई थी।
६ मार्च २०२०: बीगोद क्षेत्र में खनिज विभाग की टीम ने बजरी भरी दो गाडि़यां रोकने का प्रयास किया। माफिया ने टीम पर हमला कर पथराव किया।

रात होते ही दोहन का काम
माफिया बनास व कोठारी नदी से अवैध बजरी का जमकर दोहन कर रहे हैं। नदी तट पर लाखों टन अवैध बजरी का स्टॉक जमा कर रखा है।

अवैध खनन ने फिर छीनी दो जिंदगी
झालावाड़. ग्राम पंचायत धतुरिया स्थित आहू नदी में बजरी का अवैध खनन करने गए मजदूर ढेर में दब गए। इनमें से दो जनों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक गंभीर घायल हो गया। पुलिस के अनुसार डग थाना क्षेत्र के धतुरिया कलां निवासी कमललाल ने दिए पर्चा बयान में बताया कि सोमवार को भगवान लाल और गुड्डी बाई पत्नी बालूसिंह निवासी धतुरिया के साथ आहु नदी से ट्रैक्टर-ट्रॉली में बजरी भरने गए थे।अचानक मिट्टी का ढेर उनके ऊपर गिर गया। इससे तीनों उसके नीचे दब गए। उन्हें बड़ी मुश्किल से बाहर निकाला, लेकिन तब तक भगवानलाल व गुड्डीबाई की मौत हो गई, कमल गंभीर घायल हो गया।

jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned