शनि जयंती पर चार ग्रहों का बदलाव देगा ये सुखद परिणाम

भगवान शनिदेव का हुआ पंचामृत अभिषेक, पूजा-अर्चना

By: Rajkumar Sharma

Updated: 23 May 2020, 11:49 AM IST

जयपुर. ज्येष्ठ अमावस्या के मौके पर कई वर्षों बाद विशिष्ट योग में शनि जयंती मनाई गई। भगवान शनिदेव का पंचामृत अभिषेक हुआ। इस मौके पर श्रद्धालुओं ने काली वस्तुओं का दान कर शनि की साढ़े साती और ढैय्या से मुक्ति की कामना की।
बजाजनगर, एसएमस अस्पताल और एमआई रोड स्थित शनि मंदिरों में केवल पुजारियों ने पंचामृत और तेलाभिषेक के बाद सूर्यपुत्र का ऋतु पुष्पों से शृंगार किया। ब्रह्मपुरी रोड, माधोविलास पुलिया स्थित प्राचीन मंदिर में महंत ओम प्रकाश शर्मा के सान्निध्य में शनिदेव के पूजन के बाद शाम को आरती हुई। भक्तों ने काले तिल, उड़द सहित काली वस्तुओं का दान किया। वहीं, सिंधी कैम्प, जगतपुरा, मालवीयनगर, बापूनगर और चारदीवारी के शनि मंदिरों में भी पुजारियों ने ही पूजन किया। वहीं, शनि जयंती पर वृष राशि में सूर्य, चंद्र, बुध और शुक्र ग्रहों ने प्रवेश किया। यह बदलाव आगामी समय में देश के लिए सभी क्षेत्रों में सुखद परिणामदायी साबित होगा।

Rajkumar Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned