आवक बढ़ते ही सब्जी का जायका बढ़ाएगा प्याज-टमाटर

दिसंबर के पहले सप्ताह के बाद दाम कम होने की उम्मीद

By: SAVITA VYAS

Published: 29 Nov 2020, 10:03 PM IST

जयपुर। राजधानी जयपुर समेत आस-पास की जगहों और प्रदेशभर में बदले मौसम के मिजाज के बीच आमजन की रसोई के लिए अच्छी खबर है। मौसमी और हरी सब्जियों के भावों के बाद अब सब्जी का जायका बढ़ाने वाले प्याज के दाम भी दिसंबर के पहले सप्ताह के बाद से कम होना शुरू होंगे। इसकी मुख्य वजह प्रदेश से नई आलू व प्याज की फ सलों की आवक आना शुरू होगी, जिससे आमजन को राहत मिलेगी। साथ ही कीमतें भी कम होंगी। इसके अलावा टमाटर की भी देसी फ सल आने से कीमतों में कमी का दौर शुरू होगा।

दिवाली के बाद इतनी हुई तेजी
आलू-प्याज थोक विक्रेता संघ अध्यक्ष शिवशंकर शर्मा ने बताया कि आलू-प्याज के दाम दिवाली बाद से अब तक सात से आठ रुपए तक बढ़ चुके हैं। पहले प्याज थोक में 22 रुपए किलो तक बिक रहा था। अब दाम 30 से 32 रुपए के आस-पास हो चुके हैं। वहीं पुराने आलू का स्टाक कम होने के कारण आलू के दामों में भी सात रुपए प्रतिकिलो तक तेजी देखने को मिल रही है। आलू के दाम 35 से 45 रुपए प्रतिकिलो तक हो चुके हैं। वहीं दिसंबर के पहले सप्ताह के बाद पंजाब और हरियाणा का आलू आना शुरू हो जाएगा। फि लहाल आलू यूपी से आ रहा है। इसके साथ ही झालावाड़, कोटा, मध्यप्रदेश और अलवर की नई फ सल दिसंबर के साथ ही आना शुरू हो जाएगी। फि लहाल 400-400 टन आलू प्याज की आवक मंडी में हो रही है। देसी प्याज जनवरी में आना शुरू होंगे। जोधपुर, मथानिया, कुचामन और सीकर से प्याज आना शुरू होगा।

मध्यप्रदेश से आई मटर, कीमत भी कम
जयपुर फ ल सब्जी थोक विक्रे ता संघ के अध्यक्ष राहुल तंवर ने बताया कि हरी मौसमी सब्जियों के भाव कम हैं। सर्दी बढऩे के साथ ही बगरू, सिरसी, बस्सी व चौमूं सहित अन्य जगहों से आने वाली सब्जियों की आवक बढ़ी है। आगामी दिनों में आमजन को और राहत मिलेगी। हिमाचल प्रदेश से आ रहा मटर 150 रुपए किलो थोक में बिक रहा था। अब इसके दाम भी 45 से 70 रुपए किलो तक हो चुके हैं। मध्यप्रदेश और होशियारपुर से मटर की आवक शुरू हुई है।

SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned