ऑनलाइन ठगी- जयपुर में बनाया शिकार, शिलॉन्ग में कराई खरीद, मुंबई में सौंपा सैंपल

साइबर ठग अब नए तरीकों से लोगों को निशाना बना ऑनलाइन ठगी कर रहे हैं। हर्बल मेडिसिन की खरीद के नाम पर ऐसा ही एक मामला सामने आया है।

By: santosh

Published: 06 Jun 2018, 11:54 AM IST

जयपुर। साइबर ठग अब नित नए तरीकों से लोगों को निशाना बना उनसे ऑनलाइन ठगी कर रहे हैं। राजधानी में हर्बल मेडिसिन की खरीद के नाम पर ऐसा ही एक मामला सामने आया है। प्रकरण में अब तक तीन पीडि़त सामने आए हैं जिनसे 21.5 लाख से ज्यादा की ठगी हो चुकी है। स्थानीय पीडि़त की रिपोर्ट पर वैशाली नगर पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है।

 

करीब डेढ़ माह पहले स्थानीय युवा कारोबारी का एरोनिक ग्रुप की युवती वेरोनिका एनाबेल से संपर्क हुआ। एनाबेल ने कारोबारी को बातों में फंसाया और कहा कि उसकी कंपनी यूके की ऑनलाइन कंपनी है, जो भारत में हर्बल मेडिसिन से जुड़ी सामग्री खरीदती है। कारोबारी को झांसा दिया कि आप जितने रु. का माल खरीदकर उनकी कंपनी को दोगे, उस पर 40 फीसदी तक मुनाफा होगा। साथ ही पीडि़त को लोकल सप्लायर के तौर पर भी प्रोजेक्ट किया।

 

पानी जैसी दवा के 1.62 लाख रु. का भुगतान किया
सौदा तय होने पर युवती के कहे अनुसार पीडि़त ने मुंबई की निजी बैंक में चेक से करीब 1.62 लाख रु. जमा कराए व शिलॉन्ग (मेघालय) पहुंचा। यहां पीडि़त ने पुजारी हर्बल कंपनी की मालकिन भाग्यश्री से हर्बल मेडिसिन (1 लीटर) की बोतल खरीदी। पीडि़त के अनुसार वह दवा पानी जैसी थी जिसमें कोई रंग घुला हुआ था।

 

मुंबई एयरपोर्ट पर मिला नीग्रो
पीडि़त ने बताया कि फिर मुंबई एयरपोर्ट पर उस सैंपल को एनाबेल की कंपनी के मोरिश गोल्डबन नामक नीग्रो व्यक्ति को सौंपा। मोरिश ने सैंपल कम बताते हुए कंपनी को इसी दवा की करीब 1.5 करोड़ रुपए मूल्य के सैंपल मुहैया करवाने को कहा।

 

तो ठनका माथा
कंपनी की शर्तों के अनुसार सैंपल सौंपते ही पीडि़त के खाते में करीब 65 हजार अमरीकी डॉलर आने थे, जो कि नहीं आए। पूछताछ पर आरोपी टालमटोल करने लगे। शक होने पर पीडि़त ने कंपनी के दस्तावेजों को टटोला तो ठगी का पता चला। साथ ही अशोक वागमारे, प्रवीण खंडेलवाल जैसे पीडि़तों की जानकारी मिली, जिनसे भी ठगों ने इसी तरीके से करीब 20 लाख रुपए की ठगी की थी। उधर पुलिस का कहना है कि मामले में और भी शिकार सामने आ सकते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned