scriptonline zakat | अब क्राउड फंडिंग वेबसाइट से भी हो रही है जकात अदा | Patrika News

अब क्राउड फंडिंग वेबसाइट से भी हो रही है जकात अदा

जकात पर आधारित देश की पहली क्राउड फंडिंग वेबसाइट इंडिया जकात डॉट कॉम पर लोग अपनी जकात देने में काफी दिलचस्पी ले रहे हैं।

जयपुर

Published: April 23, 2022 12:06:00 pm

शिक्षा के क्षेत्र में बढ़ा जकात देने वालों का रूझान

इस्लाम के पांच प्रमुख स्तंभों में से एक है जकात अदा करना। अधिकतर मुस्लिम रोजों के दौरान ही जकात देते हैं। बदलते दौर के साथ जकात अदा करने के तरीके में भी बदलाव आया है। अब यह जकात क्राउड फंडिंग वेबसाइट और ऑनलाइन भी अदा की जाने लगी है। जकात पर आधारित देश की पहली क्राउड फंडिंग वेबसाइट इंडिया जकात डॉट कॉम पर लोग अपनी जकात देने में काफी दिलचस्पी ले रहे हैं। कोरोना काल के बाद यह टे्रंड तेजी से बढ़ा है। इंडिया जकात डॉट कॉम पर जहां एक तरफ लोग जकात देने आ रहे हैं वहीं जकात के हकदार लोग अपनी जरूरतों को उस प्लेट फॉर्म पर रख रहे हैं। जकात देने वालों को इस वेबसाइट पर विभिन्न तरह के जरूरतमंद लोग मिल रहे हैं।
अब क्राउड फंडिंग वेबसाइट से भी हो रही है जकात अदा
अब क्राउड फंडिंग वेबसाइट से भी हो रही है जकात अदा
इंडिया जकात डॉट कॉम के राजस्थान के कोर्डिनेटर फैयाज अहमद अंसारी ने बताया कि इंडिया जकात डॉट की स्थापना दो साल पहले कोरोना काल के दौरान की गई थी। इसका मकसद यह था कि लोग आसानी से ऑनलाइन अपनी जकात अदा कर सकें। इस क्राउड फंडिंग वेबसाइट ने जकात देने वाले और जकात लेने वालों को जोडऩे का काम किया है। एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स की निगरानी में चलने वाली इस क्राउड फंडिंग वेबसाइट पर अधिक मामले शिक्षा और रोजगार से जुड़े हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि यहां जकात अदा करने वाले लोगों में ज्यादातदर लोग शिक्षा और रोजगार के जरूरतमंदों को अधिक जकात देते हैं।
एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स के जयपुर चैप्टर के अध्यक्ष मकबूल अली नकवी ने बताया कि कोई भी जकात का हकदार यहां आकर अपनी जरूरत रख सकता है। इसकी जरूरत को वेबसाइट पर शुरू करने से पहले यह पड़ताल की जाती है कि क्या वह वाकई जकात लेने का हकदार है। राजस्थान से जुड़े कई जरूरतमंदों ने भी इस वेबसाइट के जरिए मदद हासिल की है।
दिलचस्प बात यह है कि इस क्राउड फंडिंग वेबसाइट के जरिए फंड जुटाकर बाड़मेर जिले के ग्रामीण इलाकों में लगभग आधा दर्जन कुएं खुदवाए गए और आधा दर्जन बेघर लोगों के लिए मकान बनाए गए।
आंकडों पर नजर डालें तो पिछले दो सालों में इस क्राउड फंडिंग वेबसाइट के जरिए लगभग नौ करोड़ रुपए का फंड जुटाकर लगभग 16 हजार लोगों को मदद दी गई है। मदद पाने वालों में लगभग साढ़े चार हजार अनाथ और दो हजार महिलाएं शामिल हैं। इस क्राउड फंडिंग वेबसाइट पर पिछले दो सालों के दौरान लगभग 29 हजार लोगों ने जकात अदा की है। जकात लेने वालों में यहां अनाथ, विधवा, गरीब आदि ऐसे व्यक्ति हैं जो अपनी शिक्षा, रोजगार, इलाज, शादी, व्यावसायिक कोर्स के लिए मदद मांगते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Monsoon Update 2022: अंडमान-निकोबार पहुंचा मानसून, जानिए आपके राज्य में कब होगी बारिशGyanvapi Survey: ज्ञानवापी परिसर में जहां मिला शिवलिंग उसे अदालत ने तत्काल सील करने का दिया आदेश, जानें क्या कहा DM नेजातिगत जनगणना: भाजपा के विरोध के बावजूद सीएम नीतीश कुमार बिहार में जल्द बुलाएंगे सर्वदलीय बैठकराहुल गांधी का केंद्र पर करारा हमला...बोले भाजपा लोगों को बांटने का काम कर रही हैराज्यसभा उपचुनाव के लिए JDU ने अनिल हेगड़े को बनाया उम्मीदवारमाणिक साहा के नेतृत्व वाली त्रिपुरा सरकार के नए कैबिनेट मंत्रियों ली शपथ, सूची देखेंSBI Loan भी हुआ महंगा, घर-वाहन की EMI बढ़ेगीनार्थ कोरिया में फैला कोरोना, मदद के लिए आगे आया साउथ कोरिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.