लॉकडाउन में चोर ही निकले बाहर

जयपुर में अप्रेल में अपराध: पिछले साल अप्रेल के मुकाबले अपराध में कमी, चोरियां नहीं थमीं, 88 प्रतिशत नीचे आया अपराध का ग्राफ

By: Abrar Ahmad

Published: 10 May 2020, 06:17 PM IST

जयपुर। लॉकडाउन के चलते राजधानी में अपराध का ग्राफ 88 प्रतिशत नीचे आ गया है। अप्रेल 2020 में अपराध पर लगे अंकुश से पुलिस ने भी राहत की सांस ली है। अब लम्बित मामलों पर भी फोकस किया जा सकेगा। आंकड़ों के अनुसार अप्रेल 2020 में महज 307आपराधिक प्रकरण जयपुर पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र में दर्ज हुए हैं। जबकि अप्रेल 2019 में यह आकड़ा 2623 था। महज 11.80 फीसदी मामले दर्ज हुए हैं। चप्पे-चप्पे पर पुलिस की मौजूदगी और लोगों की घरों में रहने से अपराध पर अंकुश लगा है। इस अवधि में गंभीर अपराध तो नाममात्र के हुए, लेकिन चोरी, नकबजनी की वारदात ने पुलिस की मौजूदगी पर सवाल खड़े किए हैं।

चोरी ही रही सर्वाधिक
हत्या, अपहरण, लूट, बलात्कर जैसी घटनाओं का ग्राफ पिछले साल अप्रेल में बढ़ा था। उससे इस बार राहत मिली है। अप्रेल 2020 में हत्या का सिर्फ 1, जबकि लूट के 3, अपहरण के 7 और बलात्कार के 10 मामले सामने आए हैं। शहर में कुल 86 चोरी व 28 नकबजनी की वारदात हुई हैं। 539 की तुलना में इस बार 45 वाहन ही चोरी हुए हैं। इसके अलावा अन्य आईपीसी की धाराओं में 171 मामले दर्ज हुए हैं।

कई गिरोह पकड़े हैं

लॉकडाउन से अपराध पर अंकुश लगा है। चोरी-नकबजनी की वारदात करने वाले कई गिरोह भी पकड़े हैं। लॉकडाउन की पालना में भी पुलिस ने कई कार्रवाई की हैं।
-अशोक कुमार गुप्ता, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त प्रथम

Abrar Ahmad Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned