हजारों की ओपीडी वाला अस्पताल सूना, कोरोना से लडऩे के लिए तैयार

- चिकित्सकों ने कहा, हमें कोरोना को हराना है इसलिए जागरूक रहें और सावधानी बरतें
- लाइव रिपोर्ट

जयपुर. सवाई मानसिंह अस्पताल। रोजाना सुबह 9 से दोपहर तीन बजे तक धन्वंतरि भवन में मरीजों और उनके परिजनों की भीड़ रहती थी। रविवार को सूना नजर आया। सीनियर सिटीजन केंद्र हो या फिर तृतीय मंजिल पर स्थित माइक्रोबायोलॉजी, पैथोलॉजी, सोनोग्राफी लैब, जहां रोजाना सैकड़़ों मरीज इलाज और जांच के लिए आते थे। रविवार को कुछेक मरीजों को छोड़कर खाली रहा। जेके लोन अस्पताल में भी मरीजों की संख्या पहले की तुलना में कम रही। राजस्थान पत्रिका टीम ने अस्पताल का जायजा लिया, तो माहौल कुछ अलग ही नजर आया।

अनाउंसमेंट के जरिए कोरोना से बचाव का संदेश
अस्पताल के मुख्य द्वार, गेट नंबर 4 के पास रजिस्ट्रेशन काउंटर और 72 नंबर कमरे के पास प्रशासन की ओर से लगातार लाउड स्पीकर के जरिए अस्पताल में आने वाले लोगों को कोरोना से बचाव का संदेश दिया जा रहा है। लाउड स्पीकर के माध्यम से बताया जा रहा है कि भीड़भाड़ से दूर रहे। एक-दूसरे से बात करने पर एक-दो मीटर की दूरी रखें। बार-बार हाथ धोएं। मास्क का उपयोग करें।

वार्ड खाली, बांगड़, कोरिडोर सब खाली-
पत्रिका टीम धन्वंतरि के पास से एसएमएस अस्पताल की मुख्य बिल्डिंग में गई। वहां पूरे अस्पताल को सेनेटाइज किया हुआ था। कोरिडोर में ट्रोलियों की गड़-गड़ की आवाज सुनाई नहीं दे रही थी। न मरीज दिखाई दे रहे थे और न ही अस्पताल का स्टाफ चहलकदमी करते दिखाई दे रहा था। बांगड़ में एंजीयोग्राफी करने वालों की जहां रोजाना भीड़ रहती थी। रविवार को वहां वीरान दिखा।

किट पहने डॉक्टर मरीजों का कर रहे उपचार
अस्पताल के बाहर पुरानी इमरजेंसी के बाहर कोरोना ओपीडी और नियंत्रण कक्ष के बाहर अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. एस.एस. राणावत नर्सिंग कर्मियों को जरूरी निर्देश दे रहे थे। उन्होंने पत्रिका टीम को बताया कि लोगों को कोरोना संबंधी किसी भी तरह की मदद के लिए हेल्प लाइन नंबर 2518820,2225624 दिया गया है। कमरा नंबर 72 नंबर के पास आउटडोर बनाया है। वहां जांच और उपचार की सुविधा दी गई। पुरानी इमरजेंसी के पास 24 घंटे का नियंत्रण कक्ष बनाया है, जहां मरीजों की समझाइश की जा रही है। मरीजों के सैम्पल का सेंटर भी यहीं बनाया गया है। कोरोना ओपीडी में डिमार्केशन की गई है। तीन-तीन फीट की दूरी पर निशान लगाए हैं। जगह-जगह बैनर लगाए गए हैं। ऑडियो विजुअल डिस्प्ले किए गए हैं। कोरोना ओपीडी में चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ किट पहने आने वाले मरीजों को चैक कर दवाइयां दे रहे थे। चिकित्सकों का कहना था कि हमें कोरोना को हराना है इसलिए जागरूक रहें और सावधानी बरतें।

Avinash Bakolia Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned