ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत सबसे बड़ी खेप पकड़ी, बंद आटा मिल में छिपा रखा था दो करोड़ का गांजा

जयपुर पुलिस ने मादक पदार्थ तस्करी के बड़े नेटवर्क का किया खुलासा, ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत सबसे बड़ी खेप पकड़ी, आरोपियों के गोदाम में मिला 13 क्विंटल गांजा

 

By: pushpendra shekhawat

Published: 30 Jun 2020, 01:25 AM IST

देवेन्द्र शर्मा / जयपुर। ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत पुलिस आयुक्तालय ने बड़ी कार्रवाई अंजाम दी है। अवैध मादक पदार्थ की अब तक की सबसे बड़ी खेप पकड़ी है। तीन दिन पहले सीएसटी की पकड़ में आए गिरोह से प्रतिदिन नए खुलासे हो रहे हैं। मुख्य सप्लायार की गिरफ्तारी के बाद उसकी निशानदेही पर पुलिस ने नदबई के रीको एरिया में बंद पड़ी आटा मिल में से 13 क्विंटल 12 किलो गांजा बरामद किया है। यह खेप कुछ दिनों पहले ही आरोपियों ने उत्तरप्रदेश से मंगवाई थी।


अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक गुप्ता ने बताया कि 27 जून को लेडी तस्कर पंचमूखी उर्फ इंद्रा की गिरफ्तारी के बाद मुख्य सप्लायर रामवतार सिंह व भूपेन्द्र को पकड़ा गया। पूछताछ में पता चला कि उन्होंने कुछ दिनों पहले उत्तरप्रदेश से बड़ी खेप मंगवाई थी। इसको रखने के लिए नदबई के रीको एरिया में आटा मिल को जूट की बोरियों के बारदाने के लिए किराए पर लिया था। करीब दो साल से यह दोनों अपनी कार से जयपुर, सवाईमाधोपुर, दौसा, जयपुर ग्रामीण, अलवर, करौली, धौलपुर व भरतपुर में गांजा सप्लाई करते थे। बरामद गांजा की बाजार कीमत करीब दो करोड़ रुपए आंकी गई है।

मर्चेंट नैवी में हो गया था सलेक्शन

आरोपी भूपेन्द्र का मर्चेन्ट नैवी में सलेक्शन हो चुका था और ज्वाइनिंग मिलने वाली थी। परंतु मादक पदार्थ तस्करी में मोटे मुनाफे का मोह नहीं छुटा। अपने जीजा रामवतार के साथ इस धंधे में लिप्त रहा। उसी ने अपने गांव के पास उसे किराए पर गोदाम दिलवाया। यह प्रति किलोग्राम गांजा पर 5 हजार रुपए का मुनाफा कमा रहे थे। मामले में पुलिस इनकी सम्पत्ति की भी जानकारी जुटा रही है।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned