देखभाल के अभाव में बदहाल होते महल

देखभाल के अभाव में बदहाल होते महल
सरकार ने किए करोड़ों खर्च...
फिर भी नहीं है बिजली पानी की व्यवस्था
दीवारों को किया जा रहा है बदरंग

By: Rakhi Hajela

Published: 27 Nov 2019, 07:33 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

झालावाड़ के भीमसागर स्थित ग्राम पंचायत मऊ बोरदा के अधीन आने वाले मऊ महलों जीर्णोद्धार करवाने के लिए राज्य सरकार ने 2 करोड़ 48 लाख रुपए ख़र्च कर दिए लेकिन सारसम्भाल और देखरेख के अभाव में महल बदहाल हो रहे हैं। एक ओर जहां महलों में बड़ी बड़ी कटीली झाड़ियां उग रही हैं तो वहीं दूसरी ओर दीवारों पर अपशब्द लिखकर उन्हें बदरंग किया जा रहा है। आलम यह है कि जो भी बाहर से इन्हें देखने आता है तो इनको देखकर खुश कम निराश ज्यादा होता है। आपको बता दें कि करीब 2 वर्ष पूर्व ही इनका जीर्णोद्धार पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के कार्यकाल में हुआ था और यहां सुरक्षा के लिए होमगाड्र्स की तैनाती की गई। दो होमगार्ड के जवान तैनात होने के बावजूद भी समाजकंटक महलों की दीवारों समेत अश्लील हरकतें करने से बाज नही आ रहे हैं।
पीने पानी और लाइट व्यवस्था नहीं
आपको बता दें कि राज्य सरकार ने इसके जीर्णोद्धार पर करोड़ों रुपए खर्च कर दिए लेकिन परिसर में न तो पेयजल की व्यवस्था है और न ही बिजली का कनेक्शन है। एेसे में यहां आने वाले पर्यटकों को पेयजल के लिए परेशान होना पड़ता है। वहीं बिजली कनेक्शन नहीं होने से रात में पूरे परिसर में अंधेरा हो जाता है। एेसे में यह स्थान असामाजिक तत्वों का डेरा बन जाता है। इतना ही नहीं राज्य सरकार ने महल परिसर में करीब 3 लाख रुपए खर्च कर सुलभ कॉम्प्लेक्स बनवाया था लेकिन जब से इसे बनवाया गया तब से लेकर आज तक इस पर ताला लगा हुआ है। एेसे में महल घूमने आने वाले लोगों खासतौर पर महिलाओं को काफी परेशानी उठानी पड़ती है।
समाजकंटकों का आतंक
आपको बता दें कि यह महल परिसर करीब 8 बीघा से अधिक में फैला हुआ है। पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने से यह अब समाजकंटकों का अड्डा बनता जा रहा है। वहीं लोग इसकी दीवारों पर अपशब्द लिखकर इसे खराब करने में भी र्को कसर नहीं छोड़ रहे। कोटा से आए नरेंद्र सिंह कहते हैं। यहां पर आकर मन प्रसन्न कम दुखी ज्यादा हुआ। सरकार के पैसा खर्च करने के बावजूद भी लोगो को सुविधाएं नही मिल रही हैं। सरकार को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए यहां पेयजल और बिजली की व्यवस्था करवानी चाहिए। वहीं बंशीलाल कहते हैं जगह.जगह दीवारें खराब हो रही हैं। गार्ड ध्यान नहीं देते खुद भी नीचे ही दुकानों पर बैठे रहते हैं। महलों की दुर्दशा खराब हो रही है । महलों की सार सम्भाल पर्यटक विभाग को करनी चाहिए। यहां आने वाले लोगों से शुल्क लेकर भी यह यहां लाइट की व्यवस्था की जा सकती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned