संचालकों के दबाव में स्कूल खुलते हैं तो सड़कों पर उतरेंगे अभिभावक

स्कूलों की मॉनिटरिंग और जांच व्यवस्था सुनिश्चित किए बिना स्कूल खोलने पर विचार करना अनुचित : संयुक्त अभिभावक संघ

By: Rakhi Hajela

Published: 29 Dec 2020, 11:57 PM IST


जयपुर। संयुक्त अभिभावक संघ ने शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के उस प्रस्ताव की निंदा की है, जिसमें उन्होंने 1 या 4 जनवरी से स्कूलों को खोलने का प्रस्ताव मुख्यमंत्री के पास भेजा है जबकि अभी तक यह सुनिश्चित नहीं किया गया है कि इन 3 या 6 दिनों में राज्य सरकार 50 हजार से अधिक निजी स्कूलों और 11 लाख से अधिक शिक्षकों की कोविड जांच कैसे पुख्ता करेगी और उनकी निगरानी के लिए क्या मॉनिटरिंग व्यवस्था की गई है।
संघ प्रवक्ता अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा कि राज्य सरकार को निजी स्कूलों और शिक्षकों के कोविड जांच की व्यवस्था सुनिश्चित करनी चाहिए, उसके बाद बच्चों का ट्रायल बेस लेना चाहिए, क्योंकि अन्य देशों से नए कोविड केस निकलकर सामने आ रहे हैं, जो सीधे बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है। अगर राज्य की वर्तमान व्यवस्था के तहत स्कूल खोले जाते हैं तो यह व्यवस्था पुख्ता नहीं है। साथ ही राज्य सरकार को यह जानकारी भी देनी चाहिए कि अब तक इस कोविड दौर में जितने भी सरकारी विभागों के कार्यालय खोले गए उनमें कितने कर्मचारी कोविड पॉजिटिव आए उन ऑफिसों की कैसे मॉनिटरिंग व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है, कितने कर्मचारी पॉजिटिव आए हैं उनका डाटा सार्वजनिक करना चाहिए।
अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल ने राज्य सरकार से पूछा है कि अब तक राज्य सरकार और शिक्षा विभाग ने कितने स्कूलों की किस स्तर पर जांच सुनिश्चित की है, क्या स्कूलों ने बच्चों को कोविड से बचाने की पूरी व्यवस्था सुनिश्चित की गई है, जिससे अभिभावक सन्तुष्ट हो सके और अपने बच्चों को संचालकों और टीचरों की जिम्मेदारी पर स्कूल भेज सके।
अभिभावक संघ घर.घर चलाएगा सर्वे
संयुक्त अभिभावक संघ प्रदेश में स्कूल खुले या ना खुले को लेकर एक सर्वे घर.घर चला रहा है जिसमें 7 प्रश्न पूछे जाएंगे। यह सर्वे बुधवार से ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से चलाया जाएगा। बाकायदा पहले 3 दिनों में 5 हजार से अधिक अभिभावकों को इस सर्वे से जोड़ा जाएगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned