पर्युषण पर्व आत्म केंद्रित पर्व, श्वेताम्बर जैन समाज के पर्युषण पर्व की हुई शुरुआत

पर्युषण पर्व आत्म केंद्रित पर्व, श्वेताम्बर जैन समाज के पर्युषण पर्व की हुई शुरुआत

Harshit Jain | Publish: Sep, 06 2018 08:46:35 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

-होगी विशेष धर्म आराधना, शहर में 17 से अधिक साध्वी और मुनियों का हो रहा है चातुर्मास

जयपुर. श्वेताम्बर जैन धर्मावलंबियों के आठ दिवसीय पर्युषण पर्व की गुरुवार से शुरुआत हुई। इस मौके पर तपागच्छ, खरतगच्छ, तेरापंथ और स्थानकवासी सम्प्रदाय के लोग विशेष धर्म आराधना करेंगे। शहर में विभिन्न जगहों पर सभी श्वेताम्बर सम्प्रदायों के 17 से अधिक साध्वी और मुनि का चातुर्मास हो रहा है। इस दौरान मंदिर प्रबंधन की ओर से विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जैन श्वेताम्बर तपागच्छ संघ के की ओर से घी वालों का रास्ता स्थित आत्मानंद सभा भवन में आठ दिन तक विशेष कार्यक्रम होंगे। वहीं अष्टाह्निका व्याख्यान, अंतगढ़ सूत्र और कल्प सूत्र का वाचन, पौषध क्रिया, संवर प्रतिक्रमण, चैत्य परिपाटी और अन्य कार्यक्रम होंगे। वहीं संवत्सरी प्रतिक्रमण पर क्षमापन महापर्व से कार्यक्रम का समापन होगा।

यहां भी होंगे आयोजन
जैन स्थानक हरि मार्ग मालवीय नगर स्थित साध्वी विभावना, फ्रंटियर कॉलोनी आदर्श नगर में साध्वी वृद्धि रश्मि आदि, समता भवन महारानी फॉर्म में मदन मुनि, उमेद मुनि, प्रतापनगर में राजेश मुनि, लाल भवन जैन स्थानक में पारस मुनि, अभिनंदन मुनि, किरण पथ स्थित महावीर भवन में साध्वी स्नेहलता, श्याम नगर स्थित भिक्शु साधना केन्द्र में सुमेरमल मुनि और उदित कुमार मुनि, अणुविभा केन्द्र मालवीय नगर में साध्वी धनश्री, जौहरी बाजार मिलाप भवन में साध्वी मंगलप्रभा सहित अन्य जगहों पर साध्वी और मुनि के सानिध्य में धार्मिक अनुष्ठान होंगे।

झांकी का हुआ अनावरण
पर्युषण पर्व के पहले दिन आत्मानंद सभा भवन में मुनि विजय ने अपने प्रवचन में कहा कि जीवन में आने वाले अन्य लौकिक पर्व आमोद प्रमोद पर आश्रित होते हैं, जबकि पर्युषण पर्व आत्म केंद्रित होता है। प्रवचन के बाद आत्मानंद जैन सेवक मंडल द्वारा बनाई गई शत्रुंजय तीर्थ की झांकी का विमल दास ढड्डा ने अनावरण किया। प्रचार संयोजक प्रवीण नाहटा ने बताया कि पर्युषण के दूसरे दिन सामूहिक स्नात्र पूजा होने के बाद अष्टाह्निका व्याख्यान माला में मुनि का प्रवचन होगा। दोपहर 2 बजे सुमति जिन श्राविका मंडल पूजा होगी।

भावांजलि और रक्तदान शिविर आज
जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के चतुर्थ आचार्य जयाचार्य के १३७ वें महाप्रयाण दिवस के मौके पर भावांजलि समारोह शुक्रवार को रामलीला मैदान में होगा। इससे पूर्व गुरुवार शाम को भक्ति संध्या का आयोजन भी किया गया। वहीं मुनि सुमेरमल स्वामी, मुनि उदित कुमार, साध्वी धनश्री, साध्वी मंगल प्रभा, साध्वी मंगलप्रभा के सानिध्य में सुबह ९ बजे से भावांजलि और रक्तदान शिविर कार्यक्रम होगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned