बीमा योजना में रुचि नहीं दिखा रहे लोग

बीते दो वर्षों में राज्य सरकार की चिकित्सा के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धियों में शामिल भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना पर्याप्त प्रचार-प्रसार के अभाव में आमजन को आकर्षित नहीं कर पा रही है

By: शंकर शर्मा

Published: 16 Dec 2015, 11:39 PM IST


जयपुर. बीते दो वर्षों में राज्य सरकार की चिकित्सा के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धियों में शामिल भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना पर्याप्त प्रचार-प्रसार के अभाव में आमजन को आकर्षित नहीं कर पा रही है। योजना शुरू होने के चार दिन बाद बुधवार शाम तक राजधानी स्थित प्रदेश के तीन सबसे बड़े मल्टी व सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों में योजना का लाभ लेने के लिए ना के बराबर मरीज पहुंचे।

सबसे बड़े शिशु रोग अस्पताल जेकेलोन में तो एक भी मरीज इस योजना का लाभ लेने अभी तक नहीं आया है। जबकि सबसे बड़े स्त्री एवं प्रसूति रोग अस्पताल सांगानेरी गेट स्थित महिला चिकित्सालय में शुरुआती तीन दिनों में एक भी मरीज नहीं आया, बुधवार को एक मरीज यहां इसका लाभ लेने के लिए पहुंचा। करीब दो हजार से भी अधिक भर्ती क्षमता वाले और देश के सबसे बड़े ओपीडी वाले एसएमएस अस्पताल में भी इस दौरान योजना का लाभ लेने के लिए मात्र 20 मरीजों का पंजीकरण हो पाया है।

नि:शुल्क दवा जांच जैसा उत्साह नहीं : पड़ताल में सामने आया कि इस योजना के प्रति आमजन में नि:शुल्क दवा और जांच योजना जैसा उत्साह नहीं है। योजना में निजी अस्पतालों का भी लाभ लिया जा सकता है, लेकिन वहां भी अभी अधिक संख्या में लोग जाने से इसलिए कतरा रहे हैं कि कहीं उनकी जेब को फटका नहीं लग जाए। हालांकि, राज्य सरकार की शर्तों के अनुसार तय की दरों पर निजी अस्पतालों को पूरा इलाज मुफ्त करना होगा।

ये रहे कारण

इन सभी अस्पतालों में पहले से ही करीब 70 फीसदी इलाज नि:शुल्क मिल रहा है। एेसे में लोग बीमा योजना के प्रति अधिक उत्साही नहीं है
 बीमा योजना का अभी पूरा प्रचार-प्रसार भी नहीं हो पाया है
 लोग दस्तावेज पूरे नहीं ला रहे, हालांकि नियमानुसार दस्तावेज का इंतजार किए बिना उपचार शुरू करना जरूरी है, निश्चित समय अवधि में दस्तावेज दिखाने भी जरूरी हैं
 लोग अभी योजना को पूरी तरह समझ नहीं पा रहे हैं


दस्तावेज नहीं ला रहे
अभी इस योजना का लाभ लेने के लिए एक मरीज पंजीकृत हुआ है। लोग दस्तावेज पूरे नहीं ला रहे हैं, इसलिए पंजीकरण कम हो सकता है। डॉ.बी.एस.मीणा, अधीक्षक, महिला चिकित्सालय, सांगानेरी गेट

धीरे-धीरे संख्या बढऩे की उम्मीद
हमारे यहां एक भी मरीज इस योजना के तहत नहीं आया है। उम्मीद है कि धीरे-धीरे संख्या बढ़ जाएगी।
डॉ.अशोक गुप्ता, अधीक्षक, जेकेलोन अस्पताल

व्यवस्थाएं पूरी हैं
एसएमएस अस्पताल में अभी तक 20 मरीजों का पंजीकरण बीमा योजना के तहत हुआ है। यहां व्यवस्थाएं पूरी हैं।
डॉ.अजीत सिंह, अतिरिक्त अधीक्षक, एसएमएस अस्पताल

1.64 करोड़ लोग अब भी वंचित
योजना में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना व राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत चयनित सभी लोगों को शामिल किया गया है। योजना के लाभ के लिए सरकार ने सभी परिवारों के सदस्यों का डाटा फीडिंग आवश्यक किया था। दौसा को छोड़कर किसी भी जिले में यह कार्य पूरा नहीं हुआ है। बुधवार तक राज्यभर में 70 लाख 28444 परिवारों के 2 करोड़ 65 लाख 58 हजार से अधिक सदस्यों की फीडिंग हो सकी है। ऐसे में अस्पतालों में लगाए कम्प्यूटरों पर फीडिंग से वंचित परिवारों का रिकॉर्ड प्रदर्शित नहीं होने से उन्हें निराश लौटना पड़ रहा है।
शंकर शर्मा
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned