​बिना सुरक्षा इंतजाम फील्ड में उतरे मीटर रीडर

शहर में शुरू हुई पानी मीटरों की मीटर रीडिंग
जलदाय विभाग के सिटी सर्कल में मीटर रीडरों को थमाए बाइंडर
मास्क व सेनीटाइजर मीटर रीडरों को नहीं कराए उपलब्ध
बिना सुरक्षा इंतजाम फील्ड में जाने से कतरा रहे जलदायकर्मी

By: anand yadav

Published: 28 May 2020, 11:33 AM IST

जयपुर। कोरोना संक्रमण के चलते बीते दो महीने से ज्यादा समय से लागू लॉक डाउन में जलदाय विभाग ने राजधानी में पानी उपभोग बिल नहीं बांटे। वहीं अब सिटी सर्कल के मीटर रीडरों को बिना सुरक्षा इंतजाम फील्ड में जाकर मीटर रीडिंग लेने के निर्देश जारी किए गए हैं। कोरोना संक्रमण की आशंका और बिना फेस मास्क और सेनीटाइजर के फील्ड में जाने से मीटर रीडर घबरा रहे हैं।
जानकारी के अनुसार बीते अप्रैल से जलदाय विभाग में जल उपभोग बिलों का वितरण नहीं हुआ है। वहीं अब लॉक डाउन में छूट के साथ ही जलदाय अधिकारियों को बकाया राजस्व वसूली की याद आ गई है। बताया जा रहा है प्रताप नगर, महेश नगर सब डिवीजन समेत कई दफ्तरों में मीटर रीडिंग शीट पहुंच गई है और मीटर रीडरों को जल्द से जल्द मीटर रीडिंग शीट में भरकर भेजने के निर्देश दिए गए हैं। दूसरी तरफ विभाग ने मीटर रीडरों को अब तक फेस मास्क व सेनीटाइजर उपलब्ध नहीं कराए हैं जिसके चलते मीटर रीडरों मेंं कोरोना संक्रमण का भय सता रहा है।
दूसरी तरफ विभाग के आलाधिकारियों का कहना है कि कर्मचारियों को पर्याप्त मात्रा में सेनीटाइजर व फेस मास्क उपलब्ध तो कराए हैं और फिर भी यदि सब डिवीजनों से इस बारे में अवगत कराया जाता है तो उन्हे सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए जाएंगे।

गौरतलब है कि राजधानी जयपुर समेत पूरे प्रदेश में मार्च माह के बाद से जल उपभोग बिल जारी करने का काम ठप है। वहीं कोरोना संक्रमण के चलते मार्च में भी बकाया राजस्व वसूली का अभियान विभाग को बंद करना पड़ा और बीते दो महीने से जल उपभोग पेटे बकाया राजस्व भी करोड़ों रुपए हो चुका है। विभाग के खजाने में राजस्व की कमी के चलते विभागीय पेयजल योजनाएं भी ठप होने के कगार पर आ गई हैं। वहीं लॉक डाउन में बढ़ाई गई छूट के बाद विभाग के आलाधिकारियों ने बकाया राजस्व वसूली तेज करने के निर्देश रीजन अधिकारियों को दिए हैं।

anand yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned