जॉब कार्ड नहीं बनाने के भाजपा के आरोपों को पायलट ने नकारा

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बाहर से आने वाले श्रमिकों के जॉब कार्ड नहीं बनाने के भाजपा के आरोपों को नकार दिया है। उनहोंने कहा कि हमने अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दे रखे हैं कि बाहर से आने वाले श्रमिक पहले ही दुखी हैं। ऐसे में उनका जॉब कार्ड आसानी से बनना चाहिए।

By: rahul

Published: 21 May 2020, 07:03 PM IST

जयपुर।

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बाहर से आने वाले श्रमिकों के जॉब कार्ड नहीं बनाने के भाजपा के आरोपों को नकार दिया है। उनहोंने कहा कि हमने अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दे रखे हैं कि बाहर से आने वाले श्रमिक पहले ही दुखी हैं। ऐसे में उनका जॉब कार्ड आसानी से बनना चाहिए। इसके लिए हमने हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर रखा है। उन्होंने कहा कि कई श्रमिकों के पास कोई प्रमाण पत्र नहीं है तो इस संबंध में भी हमने साफ किया है कि सेल्फ अटेस्टेड पेपर के आधार पर उनका जॉब कार्ड बनाइए। श्रमिकों का समय बचाने के लिए क्वारेंटिन की 14 दिन की अवधि में जॉब कार्ड बनाया जाएगा।

100 की जगह 200 दिन का काम मिले

पायलट ने कहा कि हमने केंद्र सरकार से मांग की है कि मनरेगा में 100 की बजाय 200 दिन का काम दिया जाए। साथ ही मनरेगा के लिए और पैसा केंद्र की ओर से जारी किया जाए। पायलट ने कहा कि नरेगा में 36 लाख श्रमिकों को रोजगार मिला है जो पिछले दस साल में सबसे ज्यादा है। मनरेगा के 37 हजार कार्यों के लिए 1900 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं। साथ ही मनरेगा में चार काम एक गांव का नारा दिया गया है।

rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned