पीएम मोदी का आह्वान : प्लास्टिक थैलियों का विकल्प खोजें आईआईटी स्टूडेंट

पीएम मोदी का आह्वान : प्लास्टिक थैलियों का विकल्प खोजें आईआईटी स्टूडेंट
पीएम मोदी का आह्वान : प्लास्टिक थैलियों का विकल्प खोजें आईआईटी स्टूडेंट

Hanuman Ram Galwa | Updated: 11 Sep 2019, 07:13:07 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Pm Modi Plastic Free India : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (narendra modi) आईआईटी के छात्रों (iit students) से पशुओं के लिए हरे चारे की व्यवस्था और प्लास्टिक का सस्ता विकल्प देने की चुनौती स्वीकार करने की अपील की है। मोदी ने मथुरा में स्टार्टअप (start up india scheme) ग्रांड चैलेंज योजना की शुरूआत करते हुए कहा कि आईआईटी के छात्र इस चुनौती से जुड़े और समस्या का समाधान दें। उन्होंने कहा कि छात्र नए विचारों के साथ आगे आएं। सरकार उस पर गंभीरता से विचार करेगी और जरूरी निवेश करेगी। इससे रोजगार भी मिलेगा।


पीएम मोदी का आह्वान : प्लास्टिक थैलियों का विकल्प खोजें आईआईटी स्टूडेंट

- आईआईटी स्टूडेंट से मोदी का आह्वान
- प्लास्टिक का सस्ता विकल्प तलाशें
- छात्र नए विचारों के साथ आगे आएं
- पशुओं की जान के लिए प्लास्टिक खतरा
- पशुओं के लिए हरे चारे की व्यवस्था पर ध्यान
- घर, दफ्तर और कार्यक्षेत्र हो प्लास्टिक मुक्त
- प्लास्टिक की बोतलों के उपयोग बचें
- 2 अक्टूबर, 2019 से सिंगल यूज प्लास्टिक बैन
- 2022 तक प्लास्टिक मुक्त भारत का लक्ष्य
- 30 करोड़ टन प्लास्टिक कचरा हर साल पृथ्वी पर
- 1950 से अब तक 8.3 अरब टन प्लास्टिक उत्पादन
- 40 फीसदी प्लास्टिक की खपत ई-कॉमर्स सेक्टर में
- 2021 तक यूरोपियन यूनियन प्लास्टिक मुक्त
- 2025 तक शंघाई में सिंगल यूज प्लास्टिक बैन


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आईआईटी (IIT) के छात्रों से पशुओं के लिए हरे चारे की व्यवस्था और प्लास्टिक का सस्ता विकल्प देने की चुनौती स्वीकार करने की अपील की है। मोदी ने मथुरा में स्टार्टअप ग्रांड चैलेंज योजना की शुरूआत करते हुए कहा कि आईआईटी के छात्र इस चुनौती से जुड़े और समस्या का समाधान दें। उन्होंने कहा कि छात्र नए विचारों के साथ आगे आएं। सरकार उस पर गंभीरता से विचार करेगी और जरूरी निवेश करेगी। इससे रोजगार भी मिलेगा।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्लास्टिक की थैलियों का सस्ता और सुलभ विकल्प क्या हो सकता है। ऐसे कई विषयों का हल देने वाले स्टार्टअप शुरू किए जा सकते हैं। देश के डेयरी सेक्टर को विस्तार देने के लिए हमें नई तकनीक की जरूरत है। ये नवाचार हमारे ग्रामीण समाज से भी आएं इसीलिए स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज की शुरुआत की जा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्लास्टिक की समस्या समय के साथ गंभीर होती जा रही है। प्लास्टिक के खाने से पशुओं एवं जलीय जीवों के निगलने से उनका जिंदा बचना मुश्किल हो रहा है। एक बार उपयोग किए जाने वाले प्लास्टिक से छुटकारा पाना ही होगा। उन्होंने लोगों से अपने घर, दफ्तर और कार्यक्षेत्र को प्लास्टिक मुक्त करने का अनुरोध करते हुए कहा कि इसमें गैर सरकारी संगठनों, स्कूलों, कॉलेजों, महिला संगठनों और अन्य संगठनों को इस अभियान से जुडऩा चाहिए। इससे संतानों का भविष्य उज्जवल होगा।

प्लास्टिक बोतलें बंद
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्लास्टिक कचरा संग्रह किए जाने के बाद उसका रिसाइकिल किया जाएगा और जिसे ऐसा नहीं किया जाएगा। उसे सीमेंट कारखानों और सड़क निर्माण में उपयोग में लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकारी कार्यक्रमों में प्लास्टिक की बोतलों का उपयोग नहीं किया जाएगा। उसके स्थान पर मिट्टी या धातुु के बर्तनों का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि डेयरी विस्तार और दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए नवाचार की जरूरत है। पशुओं में दूध उत्पादन बढ़ाने के लए हरे चारे की जरूरत है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned