राजस्थान में 308 हथियार तस्कर सक्रिय, हाड़ौती में सर्वाधिक

पुलिस बना रही खाका : सभी आरोपी हथियार तस्करी में रह चुके शामिल

By: jagdish paraliya

Updated: 28 May 2020, 05:08 PM IST

कोटा. पुलिस प्रदेश में अवैध हथियारों की तस्करी करने वालों पर लगाम कसने के लिए उनका खाका तैयार कर रही है। इसके तहत हाल ही पुलिस ने प्रदेशभर में एेसे ३०८ आरोपियों को सूचीबद्ध किया है। इसमें सर्वाधिक तस्कर कोटा जिले के हैं, वहीं झालावाड़ हथियार तस्करी में दूसरे स्थान पर है। अकेले हाड़ौती में ही प्रदेश के ७७.५९ फीसदी तस्कर सक्रिय हैं। पुलिस विभाग ने राज्यभर में हथियार तस्करी में लिप्त रहे आरोपियों की सूची बनाई है।
इसमें एक या एक से अधिक बार अवैध हथियारों के साथ पकड़े गए आरोपी शामिल हैं। इसमें कोटा में कई संभागों से अधिक १३० हथियार तस्कर हैं, जबकि झालावाड़ में १०८ हथियार तस्कर हंै। जयपुर हथियार तस्करों के मामले में तीसरे स्थान पर है।

कोटा, झालावाड़ में विशेष काम
पुलिस अधिकारियों का मानना है कि हथियार तस्करों के बारे में कोटा व झालावाड़ में हथियार बरामद करने, बनाने या लाने के बारे में आखिरी कड़ी तक पहुंचने पर विशेष काम किया गया है। दोनों जिलों में हथियारों का चलन हमेशा से रहा है। इसके अलावा ये मध्यप्रदेश की सीमा से भी सटे होने से यहां अवैध हथियार पहुंचते हैं।

यहां नहीं है तस्कर
प्रदेश के १६ जिले जालोर, जैलसमेर, बाड़मेर, पाली, सिरोही, बारां, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, राजसमन्द, प्रतापगढ़, धौलपुर, भीलवाड़ा, सवाईमाधोपुर, भरतपुर, सीकर व दौसा में एक भी हथियार तस्कर नहीं है।

यहां कुछेक तस्कर
इसके अलावा टोंक, चूरू, उदयपुर, बूंदी व चित्तौडग़ढ़ में १-१, अजमेर में २, झुंझुनंू, बीकानेर व नागौर में ३-३, हनुमानगढ़ में ४, करौली व श्रीगंगानगर में ५-५, जोधपुर में ६ व अलवर में ७ हथियार तस्कर चिह्नित किए गए हंै।

अवैध हथियार रखने वालों पर पैनी निगाह रखी जा रही है। कोटा शहर व ग्रामीण के अलावा झालावाड़ जिले में अवैध हथियार तस्करों को चिह्नित किया है। इन पर प्रभावी लगाम कसने के लिए विशेष अभियान चलाए गए। साथ ही, हथियार रखने वालों को दबोचकर पूछताछ कर आखिरी सिरे तक पहुंचकर कार्रवाई की गई।
रविदत्त गौड़, पुलिस उप महानिरीक्षक, कोटा रेंज

jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned