राजस्थान: पुलिस पहरे में यूथ कांग्रेस मुख्यालय, दो शिफ्ट में 20 पुलिसकर्मी देते हैं ड्यूटी- जानें क्या है वजह?

-23 अगस्त को विधायक युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष मुकेश भाकर ने दी थी धरने की चेतावनी, 24 अगस्त को हुआ था नए प्रदेशाध्यक्ष गणेश घोगरा का पदभार ग्रहण कार्यक्रम, पदभार के 25 दिन बाद तक मुख्यालय से नहीं हटाई गई पुलिस

By: firoz shaifi

Published: 17 Sep 2020, 10:46 AM IST

फिरोज सैफी/जयपुर।

प्रदेश की सियासत में गहलोत-पायलट कैंप में भले ही सुलह की बात कही जा रही हो, लेकिन अंदरखाने तल्खी अभी भी बरकरार है। इसका एक उदाहरण प्रदेश कांग्रेस का मुख्यालय भी है जो पिछले 25 दिन से पुलिस पहरे में है।

 

पायलट कैंप के विधायक और युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष मुकेश भाकर की ओर से धरने की चेतावनी के बाद मुख्यालय में पुलिस बल तैनात किया गया था। हालांकि इस बात को अब 25 दिन बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस अभी भी मुख्यालय में तैनात रहती है। इनमें एक एसआई सहित पुलिस और महिला पुलिसकर्मी शामिल हैं।

 

दो शिफ्ट में 20 पुलिसकर्मी देते हैं ड्यूटी
प्रदेश युवा कांग्रेस मुख्यालय में 20 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगी हुई है, जो 10-10 की टीम में दो शिफ्ट में ड्यूटी देते हैं पहली शिफ्ट सुबह 9 बजे से लेकर दोपहर तीन बजे तक होती है और उसके बाद दूसरी शिफ्ट में तैनात पुलिसकर्मी दोपहर तीन बजे से रात 10 बजे तक ड्यूटी देते हैं।

 

भाकर ने 23 अगस्त को दी थी धरने की चेतावनी
दरअसल युवा कांग्रेस के नए प्रदेशाध्यक्ष और गहलोत कैंप के विधायक गणेश घोगरा का 24 अगस्त को पदभार ग्रहण कार्यक्रम होना था। इसकी तैयारियां भी युवा कांग्रेस मुख्यालय में चल रही थी। इसी बीच पायलट कैंप के विधायक मुकेश भाकर ने खुद को निर्वाचित अध्यक्ष बताते हुए 23 अगस्त को अपने समर्थकों के साथ युवा कांग्रेस मुख्यालय में धरने की चेतावनी दी थी, जिसके बाद आनन-फानन में दो थानों की पुलिस टीम मुख्यालय में तैनात की गई थी।

 

हालांकि देर रात मुकेश भाकर धरना देने नहीं पहुंचे। 24 अगस्त को विधायक और युवा कांग्रेस के नए प्रदेशाध्यक्ष गणेश घोगरा के पदभार ग्रहण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने भी शिरकत की थी।

 

पुलिस तैनाती की चर्चाएं जोरों पर
वहीं 25 दिन से युवा कांग्रेस मुख्यालय में पुलिस तैनात रहने की चर्चाएं इन दिनों कांग्रेस हलकों में खूब है। वहीं सवाल ये भी उठता है कि विवाद खत्म होने के इतने दिनों बाद भी आखिर पुलिस के आलाधिकारियों ने युवा कांग्रेस मुख्यालय में पुलिस बल क्यों तैनात किया हुआ है। गौरतलब है कि पार्टी से बगावत करने वाले पायलट कैंप में मुकेश भाकर भी शामिल थे, जिसके चलते कांग्रेस आलाकमान ने मुकेश भाकर को युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाकर गहलोत कैंप के विधायक गणेश घोगरा को अध्यक्ष नियुक्त किया था।

 

इनका कहना है
नहीं ऐसी कोई बात नहीं है जो पुलिस बल युवा कांग्रेस मुख्यालय में है वो रिजर्व है, युवा कांग्रेस मुख्यालय, कलेक्ट्रेट के साथ ही कई ऐसे पाइंट हैं जहां इनकी तैनाती होती है, जिससे इमरजेंसी होने पर इन्हें यहां से भेजा जा सके।
प्रदीप मोहन शर्मा, पुलिस उपायुक्त, पश्चिम

firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned