पुलिस ने छात्रनेताओं को सोशल मीडिया पर दी बैनर पोस्टर नहीं लगाने की हिदायत तो नेताओं ने पूछा कैसे करें प्रचार

पुलिस ने छात्रनेताओं को सोशल मीडिया पर दी बैनर पोस्टर नहीं लगाने की हिदायत तो नेताओं ने पूछा कैसे करें प्रचार
police-instructed-students-not-to-put-banner-posters-

HIMANSHU SHARMA | Updated: 19 Aug 2019, 10:37:47 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

आचार संहिता लगते ही कुलपति ने कहा मेरे कार्यकाल का आखिरी चुनाव तो शांतिपूर्ण होंगे



जयपुर
राजस्थान विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनावों की आचार संहिता लग गई हैं। इसी के साथ अब विश्वविद्यालय की कोड आॅफ कंडक्ट कमेटी और पुलिस ने भी अपना काम शुरू कर दिया है। आचार संहिता लगने के साथ ही पुलिस ने विश्वविद्यालय को पत्र भेज कर लिंगदोह कमेटी की पालना करवाने के लिए कहा है। वहीं सोशल मीडिया फेसबुक,व्हाटसएप के ग्रुपों पर पुलिस ने छात्रनेताओं को मैसेज भेज कर हिदायत दी है कि वह नियमों की पालना करें नहीं तो पुलिस उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। पुलिस का सोशल मीडिया पर बैनर पोस्टर नहीं लगाने की हिदायत देने वाला मैसेज वायरल होते ही छात्रनेताओं ने विरोध शुरू कर दिया और पुलिस से ही पूछ लिया कि आप ही बता दे कि अब प्रचार कैसे करें। पुलिस के विश्वविद्यालय बीट अधिकारी कमल सिंह और जिला ईस्ट डीएसबी के धमेन्द्र ने सोशल मीडिया पर पुलिस आयुक्तालय की ओर से आया संदेश वायरल किया। आयुक्तालय के संदेश में लिखा था कि राजस्थान विश्वविद्यालय एवं इसके संगठक कॉलेजों में दिनांक 27 अगस्त को होने वाले चुनाव के संबंध में सभी प्रत्याशियों से आग्रह किया जाता है कि कोई भी प्रत्याशी चुनाव के संबंध में प्रचार सामग्री जैसे बैनर पंपलेट होर्डिंग ना तो कहीं चिपकाए ना ही कहीं फेंकेगा। अगर किसी प्रत्याशी की प्रचार सामग्री कहीं भी फैलाई हुई पाई गई तो उसके खिलाफ पुलिस की ओर से सख्त कार्रवाई की जाएगी। जैसे ही यह मैसेज वायरल हुआ तो छात्रनेताओं और इनके समर्थकों ने पुलिस से ही प्रचार करने के तौर तरीके पूछे लिए।
सोशल मीडिया पर प्रशासन से यह सवाल पूछ रहे नेता
पुलिस की ओर से कार्रवाई का संदेश आते ही छात्रनेता और उनके समर्थकों ने सोशल मीडिया पर कुछ सवाल पूछ लिए। एबीवीपी के जिला संयोजक सज्जन कुमार ने कहा कि यह निर्णय गलत है। क्योकि सरकार ने वैसे ही चुनाव की तारीख छुट्टियों में तय की है चुनाव प्रचार करने का समय ही नहीं मिल रहा छुट्टी होने के कारण। तो विश्वविद्यालय से महासचिव प्रत्याशी रहे दिनेश गरेड ने पूछा कि जब आम चुनाव होते हैं तब कहां चला जाता है यह पुलिस प्रशासन। इस तरह छात्र राजनीति को दबाया जा रहा हैं। वहीं किसी ने इसका पुलिस की इस संदेश को अच्छा और सही बताया और कहा कि हुडदंग पर रोक लगनी चाहिए।
कोड आॅफ कंडक्ट कमेटी की नजर
आचार संहिता लगने के साथ ही विश्वविद्यालय में कोड आफ कंडक्ट कमेटी अपनी नजर रखेगी। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आरके कोठारी ने कहा कि यह मेरे कार्यकाल का आखिरी चुनाव है तो शांतिपूर्ण ही होगा। क्योकि इससे पहले मेरे कार्यकाल में दो चुनाव मैं और विश्वविद्यालय प्रशासन शांतिपूर्ण तरीके से करवा चुका हैं। विश्वविद्यालय परिसर के अंदर कोड आफ कंडक्ट कमेटी नियमों की अवहेलना करने वाले छात्रनेताओं को चिंहिृत कर उन्हें नोटिस देगी। वहीं विश्वविद्यालय परिसर के बाहर नियम तोड़ने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी।
इनका यह कहना
आचार संहिता लगने के साथ ही पुलिस की नजर है। विश्वविद्यालय परिसर के बाहर किसी भी तरह की प्रचार प्रसार सामग्री दिखाई दिए जाने पर उसे जब्त कर लिया जाएगा। विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर चुनाव तक पुलिस की तैनाती 24 घंटे के लिए कर दी गई हैं।
नेमीचंद,थानाधिकारी,गांधीनगर
अधिसूचना जारी होने के बाद अब सिर्फ विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार से ही प्रवेश मिलेगा। वह भी जिसके बाद आईडी कार्ड व प्रवेश पत्र है वही प्रवेश कर पाएंगे। कोई भी अनाधिकृत रूप से प्रवेश करते पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।
डॉ.गजेन्द्र पाल सिंह,डीएसडब्लयू

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned