जब विधायकों को मिल रही धमकियां तो आमजन का क्या हाल होगा ?

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनके ही बयान पर घेरा है। राठौड़ ने कहा कि सीएम ने जैसलमेर में बयान दिया है कि विधायकों को जैसलमेर इसलिए शिफ्ट किया गया है क्योंकि उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा था, धमकियां मिल रही थी। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ऐसे माहौल में राजस्थान की जनता कानून—व्यवस्था के कितने बुरे दौर से गुजर रही है।

By: Umesh Sharma

Published: 01 Aug 2020, 04:33 PM IST

जयपुर।

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनके ही बयान पर घेरा है। राठौड़ ने कहा कि सीएम ने जैसलमेर में बयान दिया है कि विधायकों को जैसलमेर इसलिए शिफ्ट किया गया है क्योंकि उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा था, धमकियां मिल रही थी। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ऐसे माहौल में राजस्थान की जनता कानून—व्यवस्था के कितने बुरे दौर से गुजर रही है।

राठौड़ ने कहा कि मैं सीएम से पूछना चाहता हूं कि कौन लोग हैं जो विधायकों को धमका रहे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ उन्हें मामला दर्ज करवाना चाहिए। राठौड़ ने कहा कि सीएम ने कहा कि विधानसभा सत्र की घोषणा के साथ ही विधायकों के मौल भाव आसमान छू रहे हैं। यह बयान चुने हुए विधायकों, विधापसभा और लोकतंत्र का अपमान हैं। अंतर्विरोध में घिरी सरकार अदृश्य हो गई है। कोरोना के 42 हजार से ज्यादा संक्रमित हैं, टिड्डी हमला कर रही है, सूखे की ओर प्रदेश बढ़ रहा है। आम आदमी यह देख रहा है और समय पर इसका बदला लेगा।

इसलिए मानसिक अवसाद में हैं विधायक

राठौड़ ने कहा कि कांग्रेस विधायक डेढ़ महीने आलीशान होटल में रहने के बाद जब अपने निर्वाचन क्षेत्र में जाएंगे तो उनका स्वागत कैसे होगा। इसकी कल्पना करके ही विधायक मानसिक रूप से वेदना में होंगे।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned