नहीं मान रहे ‘माननीय’, खुद की लापरवाही से हो रहे 'पॉजिटिव', चुनाव प्रचार में नियम-कायदे हो रहे हवा-हवाई,

चुनावी हलचलों के बीच पैर पसारता कोरोना- अब भी नहीं मान रहे ‘माननीय’, चुनाव प्रचार के दौरान नियम-कायदे हो रहे हवा-हवाई

By: nakul

Published: 24 Nov 2020, 10:51 AM IST

जयपुर।

प्रदेश में वैश्विक बीमारी कोरोना के रेकॉर्ड तोड़ पैमाने के बावजूद ‘माननीय’ लापरवाह बने हुए हैं। इसकी बानगी चुनावी प्रचार के दौरान साफ़ देखने को मिल रही है। सरकारी आदेशों की तो प्रचार अभियान में जमकर धज्जियाँ उडाई जा रही हैं। दिग्गज नेताओं की सभाएं होने के कारण पुलिस-प्रशासन भी मूक दर्शक बनी दिखाई देती है। नौबत अब ये आ गई है कि मुख्यमंत्री तक ने चुनाव में नियम-कायदे नहीं माने जाने को लेकर चिंता जताई है।

‘माननीय’ ही ताक पर रख रहे नियम
प्रदेश में इन दिनों जिला परिषद् और पंचायत समितियों के चुनाव चल रहे हैं। कोरोना काल में हो रहे चुनाव को लेकर सरकार ने कई हिदायतें और शर्तें जारी की थीं। मगर चुनाव प्रचार के दौरान सब हवा-हवाई नज़र आ रही है। जिन ‘माननीयों’ को लोगों के लिए आदर्श बनाना चाहिए वे ही सरकारी नियमों को ताक पर रख रहे हैं।

भीड़ के बीच मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग गायब
चुनावी जनसभाओं में कहीं निर्धारित संख्या से कई गुना भीड़ मौजूद रहती है तो कहीं नेताओं और जनता के मुंह से मास्क और दो गज की दूरी ही नदारद रहती है। ऐसी लापरवाही सिर्फ विपक्षी दलों के नेताओं से ही नहीं बल्कि सत्ताधारी दल के नेताओं से भी हो रही है। नेताओं के एक के बाद एक संक्रमित होने की एक ये वजह भी मानी जा रही है। वहीं आमजन में भी वैश्विक बीमारी का ग्राफ दिन-ब-दिन बढ़ रहा है।

kailash choudhary hanuman beniwal chandrabhan aakya enw18ybw8aitbwg.jpg

मुख्यमंत्री ने जताई चिंता
चुनावी कार्यक्रमों में सरकारी नियमों की पालना नहीं होने की बात खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक ने स्वीकार करते हुए चिंता ज़ाहिर की है। सोमवार को कोरोना स्थितियों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार को इस बात का एहसास है कि प्रदेश में संक्रमण के बढ़ने के पीछे नगरीय-निकाय तथा पंचायत चुनावों के प्रचार में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं होना भी है।

उन्होंने कहा कि न्यायिक बाध्यता और संवैधानिक प्रावधानों के कारण सरकार ने निकाय एवं पंचायत चुनाव कराए। राज्य सरकार तथा राज्य निर्वाचन आयोग की सख्त हिदायत के बावजूद प्रचार के दौरान मास्क लगाने एवं डिस्टेंसिंग प्रोटोकॉल की उचित पालना नहीं हो पाई।

उन्होंने वर्तमान में चल रहे पंचायतीराज चुनाव के प्रत्याशियों तथा सभी राजनीतिक दलों से हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना अनिवार्य रूप से करते हुए आमजन के समक्ष आदर्श बनने की अपील भी की है।

‘नेगेटिव’ होने के बाद फिर चुनावी रण में नेता
विभिन्न राजनीतिक दलों के कई नेता तो ऐसे हैं जो कोरोना का शिकार हो चुके हैं। लेकिन ‘पॉजिटिव’ से ‘नेगेटिव’ होने के बाद एक बार फिर चुनावी समर में पार्टी और प्रत्याशी के समर्थन में वोट अपील करने निकले हुए हैं। केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, केंद्रीय राज्य मंत्री कैलाश मेघवाल, नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल जैसे अन्य कई नेता जो पहले संक्रमित हो चुके हैं वे पंचायत और नगरीय चुनावों के सिलसिले में फील्ड में वापसी कर चुके हैं। गंभीर बात तो ये है कि संक्रमण का दंश झेलने के बाद भी ये नेता चुनावी जनसभाओं में लापरवाह नज़र आ रहे हैं।

कोरोना संक्रमण का दायरा आमजन के साथ ही नेताओं पर भी बढ़ने लगा है। संक्रमित होने वाले नेताओं की फहरिस्त लम्बी होती जा रही है। कुछ संक्रमित होकर स्वस्थ हो चुके हैं तो कुछ अब भी अस्पताल या होम क्वारंटीन हैं। गहलोत कैबिनेट में ही करीब पांच मंत्री कोरोना का शिकार हो चुके हैं। इनमें कोरोना से निपटने की ज़िम्मेदारी संभालने वाले स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा तक शामिल हो गए हैं।

ये कैबिनेट और राज्य मंत्री हो चुके कोरोना का शिकार-
कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, जलदाय मंत्री बीडी कल्ला, सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना के अलावा राज्य मंत्री सुखराम बिश्नोई, भजनलाल जाटव संक्रमण से नहीं बच पाए हैं।

ये नेता भी हो चुके ‘पॉजिटिव’
पूर्व कैबिनेट मंत्री सचिन पायलट, विश्वेंद्र और रमेश मीणा, विधायक रफीक खान, रामलाल जाट, दानिश अबरार भी संक्रमित हो चुके हैं। इनके अलावा मंत्री परसादी मीणा को पत्नी के कारण लंबे समय क्वारेंटाइन रहना पड़ा था।

‘विपक्ष’ भी नहीं बच पाया
सत्ताधारी कांग्रेस ही नहीं बल्कि प्रमुख विपक्षी दल भाजपा में भी संक्रमित होने वाले नेताओं की फहरिस्त कम नहीं है। सांसद और केंन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, राजेन्द्र गहलोत, हनुमान बेनीवाल भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। वहीं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, पूर्व मंत्री किरण माहेश्वरी, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, विधायक अशोक लाहोटी, अनीता भदेल, कालीचरण सराफ सहित कई विधायक भी संक्रमित हुए हैं।

Corona virus
Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned