नेतागिरी चमकाने के चक्कर में नेता बन रहे हैं कोरोना 'सुपरस्प्रेडर'

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए राजस्थान सरकार करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही है, लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों के नेताजी अपनी नेतागिरी चमकाने के चक्कर में कोरोना के 'सुपरस्प्रेडर' बनते जा रहे हैं।

By: Umesh Sharma

Published: 02 Sep 2020, 05:54 PM IST

जयपुर।

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए राजस्थान सरकार करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही है, लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों के नेताजी अपनी नेतागिरी चमकाने के चक्कर में कोरोना के 'सुपरस्प्रेडर' बनते जा रहे हैं। कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते हुए नेता धरना—प्रदर्शन कर रहे हैं। जहां मास्क लगाना तो दूर सोशल डिस्टेंसिंग की भी पालना नहीं की जा रही है। अगर आम आदमी ऐसा कृत्य कर दे तो जुर्माना लगाने में देर नहीं की जाती, लेकिन नेताजी पर जुर्माना लगाने की हिम्मत कौन कर सकता है ?

बीते एक सप्ताह के दौरान कई विधायक और मंत्री कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। कांग्रेस की बात करें तो परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, पूर्व पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह, पूर्व खाद्य मंत्री रमेश मीणा, विधायक रफीक खान, पूर्व महापौर ज्योति खण्डेलवाल कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। जयपुर में 28 अगस्त को हुए नीट और जेईई परीक्षा स्थगित करवाने के धरने में विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को छोड़ सभी विधायक शामिल हुए थे। खाचरियावास ने खुद के संपर्क में आए लोगों को आइसोलेट होकर खुद की जांच कराने का आग्रह किया था। इसके बाद भी धरने में शामिल हुए कई नेताओं ने खुद को आइसोलेट करने की बजाय मुख्यमंत्री आवास पर 30 अगस्त को हुए डिनर कार्यक्रम में हिस्सा तक लिया।

इस मामले में भाजपा नेता सबसे आगे

कोरोना पॉजिटिव होने के मामले में भाजपा नेता इस समय कांग्रेस से आगे चल रहे हैं। तीनों केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत, अर्जुन मेघवाल और कैलाश चौधरी कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। सांसद किरोड़ी लाल मीणा, हनुमान बेनीवाल और राजेन्द्र गहलोत भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इनके अलावा उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, विधायक चंद्रभान आक्या, हम्मीर सिंह भायल, अशोक लाहोटी कोरोना पॉजिटिव हैं। पूर्व विधायक अरुण चतुर्वेदी भी कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इसके बाद भी इन नेताओं के संपर्क में आए अन्य नेता आज भी सार्वजनिक रूप से लोगों से मिलते नजर आ रहे हैं। यही नहीं पिछले दिनों भाजपा के धरना—प्रदर्शन में कई नेता बिना मास्क के भी नजर आए।

कटारिया ने जांच के दिए थे निर्देश

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने विधानसभा सत्र के बाद विश्वेंद्र सिंह और चंद्रभान आक्या के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद सभी विधायकों को फोन पर कोरोना की जांच कराने के निर्देश दिए थे। इस दौरान कई विधायकों ने अपनी जांच भी करवाई, लेकिन अब भी कई विधायक जांच से बचते नजर आ रहे हैं।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned