डाक सहायकों पर बर्खास्तगी की गाज

बीकानेर के नौ डाक सहायक शामिल, 2013-14 में हुई थी भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का था आरोप, उच्च स्तरीय जांच कमेटी के निर्णय के बाद लिया फैसला। प्रदेश के डाकघरों में पदस्थापित करीब 292 डाक सहायकों को बर्खास्त कर दिया गया है।

By: Ambuj Shukla

Published: 23 Dec 2015, 11:41 PM IST

बीकानेर के नौ डाक सहायक शामिल, 2013-14 में हुई थी भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का था आरोप, उच्च स्तरीय जांच कमेटी के निर्णय के बाद लिया फैसला। प्रदेश के डाकघरों में पदस्थापित करीब 292 डाक सहायकों को बर्खास्त कर दिया गया है।

डाक सहायक भर्ती में गड़बड़ी के आरोपों की जांच के बाद यह निर्णय लिया गया है। इन पदों को लेकर 2013-14 में एक निजी कम्पनी के माध्यम से परीक्षा आयोजित की गई थी।

परीक्षा आयोजन और उसके परिणाम के बाद अलग-अलग जिलों में डाक सहायकों को पदस्थापित करने का कार्य 2015 में किया गया था। फिलहाल सभी डाक सहायक परिवीक्षा काल (प्रोबेशनरी पीरियड) में थे।

बताया जाता है कि पूरे भारत के छह सर्किल में राजस्थान सहित दिल्ली, हरियाणा, गुजरात तथा मध्यप्रदेश सहित अन्य प्रदेश में इस प्रकार की भर्ती सम्पन्न की गई थी।

परीक्षा सम्पन्न होने के साथ ही परीक्षा से जुड़े पेपर के लीक होने की चर्चाएं भी बाजार में निकल कर आने लगी। जानकारों की मानें तो लगातार मिल रही इस प्रकार की शिकायतों के बाद इस संबंध में एक उच्च स्तरीय जांच कमेटी का गठन किया गया, जिसके निर्णय पर फैसला करते हुए डाक विभाग ने प्रदेश के सभी डाक सहायकों को एक साथ बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया।

एक माह की दी तनख्वाह बर्खास्त किए गए सभी डाक सहायकों को डाक विभाग ने एक माह की तनख्वाह अग्रिम दी है। बताया जाता है कि पूरे भारतü में डाक विभाग ने करीब 74 सौ पदों के लिए भर्ती निकाली थी।

डाक विभाग के उच्चाधिकारियों की मानें तो अन्य प्रदेशों में पदस्थापित डाक सहायकों पर भी जल्द ही बर्खास्तगी की गाज गिरने वाली है।


Ambuj Shukla
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned