ऑटो सेक्टर में मंदी के बावजूद प्रदेश में इस बाइक की बढ़ी चार गुना बिक्री, लोगों में बढ़ रहा आकर्षण

दोपहिया वाहनों की बिक्री 15.80 फीसदी घटने के बावजूद 500सीसी से ऊपर के बाइक सेगमेंट की बिक्री में अप्रत्याशित वृद्धि दर्ज की गई है। 2018 के मुकाबले 2019 में इस सेगमेंट की बिक्री में चार गुना से ज्यादा उछाल आया है। वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम का कहना है कि देश में पावर बाइक्स ( Power Bike ) का आकर्षण बढ़ रहा है...

जयपुर। दोपहिया वाहनों की बिक्री 15.80 फीसदी घटने के बावजूद 500सीसी से ऊपर के बाइक सेगमेंट की बिक्री में अप्रत्याशित वृद्धि दर्ज की गई है। 2018 के मुकाबले 2019 में इस सेगमेंट की बिक्री में चार गुना से ज्यादा उछाल आया है। वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम का कहना है कि देश में पावर बाइक्स ( Power Bike ) का आकर्षण बढ़ रहा है। राजस्थान में 2019 में 2800 से ज्यादा पावर मोटरसाइकिलों की बिक्री हुई है, जो 2018 में मात्र 750 यूनिट थी।

सियाम के अनुसार 500सीसी से ऊपर लेकिन 800 सीसी से कम इंजन क्षमता वाली श्रेणी के तौर पर वर्गीकृत इस क्षेत्र में रॉयल एनफील्ड की हिस्सेदारी (करीब 85 प्रतिशत) सबसे ज्यादा है। इसके बाद हार्ले डेविडसन, कावासाकी मोटर्स, ट्रायम्फ, सुजूकी, बजाज ऑटो का नाम आता है।

कंपनियों की विस्तार योजना
ऑटोमोबाइल सूत्रों के अनुसार राजस्थान में सभी पावर बाइक्स कंपनियों के शोरूम मौजूद हैं। रॉयल एनफील्ड के राज्य में 25 से ज्यादा शोरूम है, इसी तरह कावासाकी, ट्रायम्फ, सुजूकी के भी जयपुर, जोधपुर व उदयपुर में भी शोरूम हैं। वहीं अगर देशभर के आंकड़ों की बात करें, तो अप्रेल से दिसंबर 2019 के बीच पावर सेगमेंट की मोटरसाइकिलों की बिक्री 18250 यूनिट रही, जो 2018 में 3600 यूनिट थी। पिछले चार तिमाहियों में 500-800 सीसी इंजन क्षमता वाले वाहनों की बिक्री तेजी से बढ़ी है।

- ‘छोटे कस्बों और शहरों से अच्छी ग्रोथ आ रही है। बीते फेस्टिव सीजन में पावर सेगमेंट की बाइक्स की ब्रिकी में चार गुना वृद्धि देखने को मिली है।’
सिद्धार्थ शाह, डीलर, रॉयल एनफील्ड

नेशनल इंश्योरेंस कंपनी के बोर्ड की बैठक आज
कोलकाता स्थित सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने सोमवार को अपने निदेशक मंडल की बैठक बुलाई है। इस बैठक से पहले शुक्रवार को दिल्ली में दो अन्य सरकारी स्वामित्व वाली सामान्य बीमा कंपनियों-ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के निदेशक मंडलों की बैठक हो चुकी है। केंद्र सरकार ने पहले सभी तीनों बीमा कंपनियों को एक ईकाई में विलय करने का प्रस्ताव दिया था। इस क्षेत्र में बड़े संघ के नेतृत्वकर्ता ने कहा कि तीनों कंपनियों के विलय को हरी झंडी देने के लिए बोर्ड की बैठक शॉर्ट नोटिस पर की जा रही है।

dinesh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned