scriptPower crisis in Pakistan, reverts to five-day work week | घोर बिजली संकट से हलकान पाकिस्तान, ऑफिसों पर ताले | Patrika News

घोर बिजली संकट से हलकान पाकिस्तान, ऑफिसों पर ताले

बिजली बचाने 'फाइव डे वर्किंग वीक' की शरण

जयपुर

Published: June 09, 2022 03:56:38 pm

इस्लामाबाद. आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान में तेल के बढ़ते दामों से लेकर डॉलर के मुकाबले रुपए में भारी गिरावट ने नींद उड़ाई हुई है। वहीं, भीषण गर्मी में 4 से 10 घंटे के पावर कट ने जीना मुहाल कर दिया है। यहां तक कि दफ्तरों में ताले लगने लगे हैं। पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार ने ऊर्जा संकट से निपटने के लिए हफ्ते में काम के आधिकारिक दिनों को छह से घटाकर फिर से पांच कर दिया है। अप्रेल में शहबाज शरीफ ने नए प्रधानमंत्री के रूप में पदभार संभालने के तुरंत बाद पाकिस्तान में छह दिनों के कार्य सप्ताह की घोषणा की। अब इससे यू-टर्न लेना पड़ रहा है। सरकार का मानना है कि 8 जून से लागू 'फाइव डे वर्किंग वीक' से बिजली व तेल की खपत को कम किया जा सकेगा। सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब का मानना है कि शनिवार की छुट्टी बहाल करने के फैसले से सालाना 386 मिलियन डॉलर बचाने में मदद मिलेगी।
घोर बिजली संकट से हलकान पाकिस्तान, ऑफिसों पर ताले
घोर बिजली संकट से हलकान पाकिस्तान, ऑफिसों पर ताले
और भी क्या—क्या होगा बंद..

  • सरकारी कार्यालयों में लंच, डिनर और हाई-टी देने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ये प्रतिबंध बुधवार से लागू हो गए।
  • एयर कंडीशनर, कार्यालय मशीनरी की खरीद के लिए एक समिति से विशेष अनुमति लेना जरूरी होगा। 
  • सरकारी स्तर पर सुविधाओं में 10 फीसदी की कमी। मंत्रियों व अधिकारियों के ईंधन भत्ते में 40 फीसदी की कटौती की जाएगी। 
  • तेल व बिजली बचाने को रात 10 बजे के बाद शादी पर बैन।
  • सरकार में जरूरी वाहनों को छोड़कर सभी प्रकार के वाहनों की खरीद पर प्रतिबंध।
  • अधिकारियों और कैबिनेट सदस्यों द्वारा विदेश से इलाज पर पूर्ण प्रतिबंध, बहुत जरूरी होने पर ही विदेश यात्राएं।
  • सारी स्ट्रीट लाइट जलाने की बजाय एक को छोड़ कर एक को जलाया जाएगा।
मांग और आपूर्ति में भारी अंतर, लोड-शेडिंग से बेहाल
सूचना मंत्री मरियम वर्तमान में आपूर्ति और मांग के बीच 4,600 मेगावाट का अंतर बता रही हैं। आपूर्ति 21,000 मेगावाट और मांग 25,600 मेगावाट है। वहीं, पाकिस्तान के जियो टीवी की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में कुल बिजली उत्पादन 18,031 मेगावाट है, जबकि बिजली की मांग लगभग 25,500 मेगावाट है। अप्रेल में बिजली की कमी का अंतर 7,468 मेगावाट तक पहुंच गया था, 10-18 घंटे तक लोड शेडिंग हुई। अभी भी कमोबेश यही हाल है। 

पेट्रोल में लगी आग, घटा विदेशी मुद्रा भंडार
पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 10.1 अरब डॉलर रह गया है, जो लगभग 45 दिन के आयात जितना है। दो अंकों की मुद्रास्फीति भी है। लगातार कीमतों में वृद्धि से पेट्रोल 209.96, डीजल 204.15 और केरोसिन 181.94 रुपए प्रति लीटर हो गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हैदराबाद में शुरू हुई BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठकUdaipur Kanhaiya Lal Murder Case में बड़ा खुलासा: धमकियों के बीच कन्हैयालाल ने एक सप्ताह पहले ही लगवाया था CCTV, जानिए पुलिस को क्या मिला...Udaipur Kanhaiya Lal Murder Case : कोर्ट तक यूं सुरक्षित पहुंचे कन्हैया हत्याकांड के आरोपी लेकिन...ऋषभ पंत 146, रवींद्र जडेजा 104, टीम इंडिया का स्कोर 416, 15 साल बाद दोनों ने रच दिया बड़ा इतिहासMumbai: बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने मुंबई की सड़कों पर गड्ढों को देखकर जताई चिंता, किया पुराने दिनों को याद250 मिनट में पूरा हुआ काशी का सफर, कानपुर-वाराणसी सिक्स लेन का स्पीड ट्रायल सफलनूपुर शर्मा के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, समन के बाद भी नहीं हुई हाजिरMaharashtra Politics: देवेंद्र फडणवीस किसके कहने पर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम बनने के लिए हुए तैयार, सामने आई बड़ी जानकारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.