scriptpower cut decision in Rajasthan will effects villagers | राजस्थान में बिजली कटौती का फैसला, ग्रामीणों पर पड़ेगी मार, पढ़ें पूरी खबर | Patrika News

राजस्थान में बिजली कटौती का फैसला, ग्रामीणों पर पड़ेगी मार, पढ़ें पूरी खबर

Power Cut In Rajasthan : राजस्थान में पड़ रही गर्मी के बीच बिजली कटौती का फैसला किया गया हैं और अब ग्रामीण इलाकों में रोजाना कई घंटे तक बिजली कटौती की जाएगी। कटौती का असर शहरी क्षेत्रों पर भी पड़ेगा, लेकिन कटौती की मार ग्रामीणों को ज्यादा झेलनी पड़ेगी। बतादें कि राजस्थान में किसी भी समय कोयले का संकट खड़ा हो सकता है।

जयपुर

Updated: April 23, 2022 04:46:14 pm

Power Cut In Rajasthan : राजस्थान में पड़ रही गर्मी के बीच बिजली कटौती का फैसला किया गया हैं और अब ग्रामीण इलाकों में रोजाना कई घंटे तक बिजली कटौती की जाएगी। कटौती का असर शहरी क्षेत्रों पर भी पड़ेगा, लेकिन कटौती की मार ग्रामीणों को ज्यादा झेलनी पड़ेगी। बतादें कि राजस्थान में किसी भी समय कोयले का संकट खड़ा हो सकता है। उधर, बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर बढ़ता जा रहा है। ऐसे में ऊर्जा विभाग के जिम्मेदारों ने प्रदेश में बिजली कटौती का फैसला कर ग्रामीणों को परेशानी में डाल दिया है। किसी भी समय आ सकता है कि कहां कितने घंटे होगी बिजली कटौती।
power_cut12.jpg
उत्पादन पूरा नहीं होने का हवाला
ऊर्जा विभाग और डिस्काॅम्स ने फैसला किया है कि राजस्थान में भीषण गर्मी की स्थिति और ऊर्जा की तेजी से बढ़ रही खपत को देखते हुए बिजली कटौती शुरू की जाएगी। बताया जा रहा है कि शनिवार शाम तक सामने आ जाएगा कि ग्रामीण इलाकों में कितने घंटे कटौती होगी और शहरी इलाकों में किस समय बिजली गुल रहेगी। ऊर्जा विभाग के आला अधिकारियों ने बिजली की लगातार बढ़ रही मांग और उत्पादन पूरा नहीं होने का हवाला देते हुए कटौती करने की बात भी की है। राजस्थान में बिजली संकट के दौरान ग्रामीण इलाकों में 4-4 घंटे कटौती के आदेश जारी होते रहे हैं।
इतनी डिमांड है राजस्थान की
राजस्थान में बिजली की मांग 2800 लाख यूनिट तक पहुंच गई है। पिछले साल की बात करें तो इस समय तक एक दिन में 2131 लाख यूनिट की मांग ही चल रही थी। ऐसे में साफ हो गया है कि बिजली तंत्र को लेकर आला अधिकारी गंभीर नहीं है और बिजली की बढ़ती मांग को पूरा करने की बजाय हाथ खड़े किए जा रहे हैं। यह भी कहा जा रहा है कि बिजली की बढ़ती मांग को देखते हुए उत्पादन बढ़ाने के लिए पावर प्लांट्स को अलर्ट मोड पर किया जा रहा है, ताकि उत्पादन बढ़ने के साथ ही मांग और आपूर्ति के अंतर को कम किया जा सके। प्रदेश के थर्मल पावर स्टेशनों की विद्युत उत्पादन क्षमता पर बात करें तो वह वर्तमान में 10110 मेगावाट है, जिनसे अभी 6600 मेगावाट विद्युत उत्पादन ही हो रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंद्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.