आंखों की रोशनी नहीं फिर भी नाम कर दिया रोशन

Amit Pareek

Publish: May, 15 2019 11:57:46 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जबलपुर. अपनी अक्षमता को हरा सफलता के झंडे गाडऩे का मामला सामने आया है। आंखों से नहीं देख पाने के बावजूद एक छात्रा ने हाई स्कूल परीक्षा में ब्लाइंड सेक्शन में प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल किया। यह होनहार छात्रा बड़े होकर प्रशासनिक सेवा ज्वॉइन करना चाहती है। बात हो रही है प्रणवी की। गोरखपुर थाने के पास रहने वाले प्रदीप मूरजानी की बेटी प्रणवी ने हाई स्कूल परीक्षा में ब्लाइंड सेक्शन में प्रदेश की मैरिट सूची में नाम दर्ज करवाया है। पिता प्रदीप छिंदवाड़ा में वित्तीय संस्थान में प्रबंधक हंै और उनकी बेटी शासकीय एमएलबी स्कूल छिंदवाड़ा में ही पढ़ रही है। प्रणवी ने बताया कि उसकी सफलता में मां जया का विशेष योगदान है। उसके सब्जेक्ट मैटर को सीडी में डब करके मां सुनाती थीं और वह उसे ब्रेल लिपि के जरिए लिखकर पढ़ती थी। उसके मुताबिक 8 से 10 घंटे पढ़ाई के बाद उसे सफलता मिली है। प्रणवी का कहना है कि वह बड़ी होकर कलेक्टर बनकर नाम रोशन करना चाहती है। प्रणवी के चाचा दिनेश ने बताया कि जिस समय परिणाम आया वह जबलपुर में थी और पूरे परिवार में खुशियां छा गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned