विधानसभा सत्र की कार्यवाही आज दोपहर बाद से, भाजपा उठाएगी प्रदेश के गरमाए मुद्दे, हंगामे के आसार

राज्य विधानसभा की कार्यवाही आज दोपहर ढाई बजे से शुरू होगी।

By: rahul

Updated: 13 Sep 2021, 10:29 AM IST

जयपुर। राज्य विधानसभा की कार्यवाही आज दोपहर ढाई बजे से शुरू होगी। आज राष्‍ट्रमण्‍डल संसदीय संघ की कार्यशाला के चलते प्रश्नकाल नहीं होगा। शून्यकाल से कार्यवाही की शुरूआत की जाएगी। इसके साथ ही गुरुवार को पहले दिन सदन में रखे गए संशोधन विधेयकों पर चर्चा के बाद आज उन्हें पारित कराया जाएगा। आज की कार्यवाही में भाजपा कानून व्यवस्था, बिजली आदि मुद्दों को लेकर सरकार को घेर सकती है। इसके लिए भाजपा विधायक दल की बैठक में विचार विमर्श हुआ था। दूसरी ओर सत्ता पक्ष की ओर से भी विपक्ष के हमलों का जवाब देने के लिए रणनीति बना ली गई है।

पहले दिन हुए विधायी कार्य—

गुरूवार को 15वीं विधानसभा के छठे सत्र की बची हुई कार्यवाही की शुरुआत हुई थी। सत्र के पहले दिन प्रश्न काल काल नहीं होने के चलते आज सदन की कार्यवाही शांतिपूर्ण संपन्न हुई थी। हालांकि आज से हंगामा होने के पूरे आसार बने हुए हैं। अब विपक्ष जहां बिजली प्रबंधन, क़ानून व्यवस्था, अवैध खनन जैसे मुद्दों को लेकर हमलावर रहने वाला है तो वहीं सत्ता पक्ष बढ़ती महंगाई और केंद्रीय कृषि कानूनों के मुद्दे पर विपक्ष के हमलों से बचाव करता नज़र आ सकता है।

पुनर्विचार के लिए लौटाया बिल
पहले दिन कार्यवाही के दौरान विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने 'राजस्थान अधिवक्ता कल्याण निधि संशोधन विधेयक 2020' के संबंध में राज्यपाल कलराज मिश्र का संदेश पढ़कर सुनाया। संदेश में बताया गया कि राज्यपाल ने इस बिल को विधानसभा में पुनर्विचार के लिए लौटा दिया है। बताया गया कि बिल में सब्सक्रिप्शन फीस बढाने का प्रस्ताव् है, लिहाज़ा इस बिल पर सदन में पुनर्विचार किया जाए।

पुर: स्थापित किये गए विधेयक
सदन में गुरूवार को विधायी कार्य हुए थे। इस दौरान राजस्थान पर्यटन व्यवसाय संशोधन विधेयक 2021 और राजस्थान माल और सेवा कर संशोधन विधेयक 2021 को पुर: स्थापित करने के लिए प्रस्ताव रखे गए। वहीं संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने 'राजस्थान विधियां द्वितीय संशोधन विधेयक' को पुर स्थापित करने की आज्ञा के लिए प्रस्ताव रखा। वहीं परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने 'राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम सेवा (बिना टिकट यात्रा निवारण) संशोधन विधेयक 2021' को पुर स्थापित करने का प्रस्ताव रखा।

दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि
विधायी कार्यों के बाद सदन में शोकाभिव्यक्ति हुई। सदस्यों ने 2 मिनट का मौन रखकर दिवंगत पूर्व सदस्यों और नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया, प्रदेश के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह, केरल और बिहार के पूर्व राज्यपाल रघुनंदन लाल भाटिया, जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन, हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, असम के पूर्व मुख्यमंत्री भूमिधर बर्मन, पूर्व सांसद रासा सिंह रावत, शांति पहाड़िया पारसाराम मेघवाल, हेमेंद्र सिंह बनेड़ा, जय नारायण, दीनबंधु परमार, पूर्व विधायक गौतम लाल, गोपाल कृष्ण, जीतमल खांट, राईया मीणा, शिवजी राम मीणा, चुन्नी लाल धाकड़, कालूराम यादव, जनार्दन गहलोत, मांगीलाल मेघवाल, नारायण लाल मीणा, महाराम चौधरी, सैयद मोहम्मद अयाज और कल्याणमल को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। इसके अलावा 11 जुलाई को जयपुर, जोधपुर और कोटा में आकाशीय बिजली गिरने से हुए हादसों के मृतकों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई थी।

rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned