मंत्री शांति धारीवाल के गौ माता पर की गई टिप्पणी पर बवाल जारी, सड़को पर उतरे लोग

neha soni | Updated: 26 Jul 2019, 04:07:01 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

गाय बहुत लाभदायक, लेकिन उसको पूजना यूजलैस है

जयपुर/ बूंदी।

नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल की ओर से विधानसभा में गायों के संबंध में की गयी टिप्पणी के बाद बवाल जारी है। बूंदी में युवा सेना के कार्यकर्ताओं ने स्वायत शासन मंत्री की गौ माता पर की गई टिप्पणी के विरोध में कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। उन्होंने प्रधानमंत्री के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। इससे पूर्व गौ भक्तों ने कलक्ट्रेट के बाहर स्वायत शासन मंत्री के पुतले के साथ प्रदर्शन किया। यहां गौ को चारा खिलाकर मंत्री के पुतले से ढोक लगवाई गई। इसके बाद सभी कार्यकर्ता कलक्ट्रेट पहुंचे ओर कार्रवाई की मांग का ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि गौ प्राचीन समय से ही हिंदुओं कि आस्था केंद्र रही है। ऐसे में कांग्रेस सरकार के मंत्री के गोमाता पर विवादित बयान से हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंची है।

 

 

protest Against  <a href=Shanti Dhariwal Statement" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/26/bundi_4891737-m.jpg">

यह कहा था धारीवाल ने


संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने धारीवाल ने विधानसभा में सावरकर की किताब का हवाला देते हुए कहा कि गाय बहुत लाभदायक, लेकिन उसको पूजना यूजलैस है।


धारीवाल ने यह बातें 22 जुलाई सोमवार रात को पुलिस, न्याय आदि मांगों पर जवाब देते हुए विधानसभा में कही। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में रहना होगा तो हिंदू बनकर रहना होगा के नारे के कारण झगड़े होते हैं। जबकि विनायक दामोदर सावरकर ने अपनी किताब में हिंदुत्व की अलग अवधारणा दी थी। इसके आधार पर बाद में आरएसएस और हिंदू महासभा की स्थापना हुई थी। हालांकि इससे पहले मुस्लिम लीग बन चुकी थी और वो धर्म के नाम पर अलग देश की मांग कर रही थी, इसलिए प्रतिक्रिया होनी स्वभाविक था। सावरकर ने हिंदुत्व की जो परिभाषा दी थी, उसे मोहन भागवत ने बदल दिया। सावरकर की किताब का हवाला देते हुए धारीवाल बोले कि गाय लाभदायक पशु, लेकिन उसे पूजे जाने में कोई सेंस नहीं है। पूजा तो सुपर ह्यूूमन को जाता है, पशुओं को पूजना व्यर्थ है। इस पर भाजपा के विधायकों ने विरोध जताया तो धारीवाल ने कहा कि हमें इन चीजों को बर्दाश्त करना चाहिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned