रेडियो की ऐसी दीवानगी कहीं और नहीं देखी होगी...तहखाने में मिला रेडियो घर

एडवांस म्यूजिक सिस्टम और स्मार्ट फोन के जमाने में रेडियो की ऐसी दीवानगी कहीं और नहीं देखी होगी।

 


-

By: surendra kumar samariya

Published: 05 Sep 2019, 10:55 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जमाना भले ही ऑनलाइन म्यूजिक ( Online Music ) के पीछे भाग रहा हो। लेकिन एक दीवाना ऐसा भी है, जो सालों पुराने रेडियो ( radio ) को संभाल रहा है। रेडियो से ऐसी मोहब्बत तो पहले कभी नहीं देखी। एक, दो, नहीं बल्कि सैकड़ों रेडियो बने हुए इनके घर के सदस्य। हम बात कर रहे है पेशे से चित्रकार विनय शर्मा ( Vinay Sharma ) की। शर्मा का नाम भले ही अपनी कला के लिए देश-विदेश जाना जाता है, लेकिन उनका दिल अपने घर के तहखाने में बने रेडियो घर में बसता है।

देश-विदेश में चित्रकारी कला से पहचान बनाने वाले विनय शर्मा का दिल रेडियो पर आया हुआ है। अपने घर के तहखाने को हजारों रुपए से किराए पर देने के बजाय उसमें रेडियो घर बसा दिया है। इस रेडियो घर में एक, दो, तीन नहीं बल्कि 200 से अधिक रेडियो है।

ये भी आधुनिक तकनीक वाले नहीं बल्कि वर्ष 1938 से लेकर 1975 तक के। एडवांस म्यूजिक सिस्टम और स्मार्ट फोन ( smart phone ) के जमाने में यह अनूठा रेडियो कलेक्शन लोगों के लिए म्यूजियम सा बन गया है।

विनय शर्मा बताते है कि वर्ष पहली बार वर्ष 1991 मे लालसोट ( lalsot ) से पुराना रेडियो लाया था। इसके बाद शहर में लगने वाले कबाड़ी बाजार, हटवाड़े में रेडियो की खोज करता है। हर रेडियो मूर्ति शिल्प जैसा लगता है। यह किसी धरोहर ( Heritage ) से कम नहीं है। इतने पुराने होने के बावजूद कई अभी भी चलते है, लेकिन फ्रिक्वेंसी में बदलाव आने से आवाज ठीक नहीं आती। इनकी सार-संभाल के रोजाना दो से तीन घंटे देने पड़ते है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned