सावधान कहीं आप तो नहीं कर रहे रेलवे में भर्ती की तैयारी

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: JAYANT SHARMA

Published: 24 Jul 2018, 11:44 AM IST

जयपुर
सीबीआई ने रेलवे में भर्ती के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का सोमवार को पर्दाफाश करते हुए आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद आरोपियों के ठिकानों पर दबिश दी गई। इसमें चौमूं समेत आगरा, लखनउ, सोनीपत और दिल्ली के लोग शामिल हैं। सीबीआई प्रवक्ता के अनुसार इन ठगों ने रेलवे के नाम और लोगो लगाकर वेबसाइट बनाकर उसमें ग्रुप सी और डी की भर्ती के लिए विज्ञापन निकाला। इसके बाद लोगों ने ऑनलाइन आवेदन भी लिया। इसकी शिकायत मिलने पर आईटी एक्ट और धोखाधड़ी के संबंध में एक केस रजिस्टर्ड किया था।

जांच की गई तो सामने आया कि कुछ लोगों ने गिरोह बनाकर बेरोजगारों को रेलवे के नाम पर झांसा दे ठगी करने की योजना बना रखी है। राजस्थान में चौमू से जिन दो ठगों को गिरफ्तार किया गया है उनके पास से भारी मात्रा में लोगों के दस्तावेज, बैंक गार्ड, सील, मोबाइल फोन और अन्य दस्तावेज भी बरामद किए हैं। पूछताछ में सामने आया कि ठगों ने चार राज्यों में ठगी का जाल फैला रखा था। ये रेलवे की ग्रुप डी और सी में भर्ती कर रहे थे। चौमू से गिरफ्तार भीमाराम और धमेन्द्र कुमार पर कई दिनों से सीबीआई की नजर थी, सीबीआई ने सोमवार को कार्रवाई कर दी। बताया जा रहा है कि राजस्थान से बेरोजगारों के साथ जो धोखाधड़ी हुई है उसकी संख्या हजारों में हो सकती है, फिलहाल सीबीआई ने सभी आरोपितों को छह जुलाई तक रिमांड पर लिया है।

फर्जी साइट बनाई, फर्जी लोगो लगाया तो आए आदेवक
आरोपियों ने विज्ञापन में रेलवे भर्ती बोर्ड के नाम और रेलवे के लोगो का भी इस्तेमाल कर रखा था। इससे भ्रमित होकर भारी संख्या में युवा आवेदन करते और ये कुछ को फर्जी दस्तावेज के जरिए जॉब लैटर तक भेज देते थे। सीबीआई के छापों में ठिकानों पर भारी संख्या में दस्तावेज, मोबाइल फोन, बैंक कार्ड, सील और नकदी बरामद की है। जानकारी में आया कि नौकरी दिलाने का झांसा देकर लोगों को फंसाते और दस्तावेज की कमियों दूर करने के बहाने तीन से पांच लाख रुपए तक ठग लेते थे। सीबीआई ने उनको कोर्ट में पेश कर 26 जुलाई तक रिमांड पर लिया है।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned