कोरोना से लड़ने के लिए रेलवे तैयार कर रहा कोच

ट्रेन के डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का काम जारी
सस्ता वेंटीलेटर भी तैयार किया है रेलवे ने

By: Sharad Sharma

Updated: 07 Apr 2020, 11:18 AM IST

देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इस बीच कोरोना के संकट से निपटने के लिए भारतीय रेलवे भी अपने कोचों में आइसोलेशन वार्ड तैयार करने में जुटा हुआ है। इसके लिए रेलवे की ओर से विभिन्न राज्यों में स्टेशन पर खड़ी रेल के कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदला जा रहा है। हाल ही में बिहार में समस्तीपुर रेलमंडल भी इसकी तैयारी में जुट गया है। पिछले दिनों रेेलवे ने सस्ते वेंटीलेटर भी बनाए है जो कि आईसीएमआर की अनुमति के लिए भेजे गए हैं।
जानकारी के अनुसार, समस्तीपुर रेलमंडल के कोचिंग डिपो में खड़ी ट्रेनों के 54 कोचों को आइसोलेशन कोच में तब्दील किया जा रहा है। इसमें 20 कोच आइसोलेशन कोच के रूप में तैयार कर लिए गए हैं। इस कोच में कोरोना के पॉजिटिव मरीजों को इलाज की सारी सुविधा प्रदान की जाएगी। यात्री रेल के कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का काम समस्तीपुर, दरभंगा, रक्सौल, सहरसा समेत पांच जगहों के रेलवे स्टेशन के कोचिंग डिपो में चल रहा है।
मंडल के डीआरएम अशोक माहेश्वरी ने बताया कि रेलवे बोर्ड के जरिए 54 कोच का लक्ष्य दिया गया, जिसमें 20 कोच को आइसोलेशन कोच में तब्दील कर दिया गया है। जल्द ही बाकी बचे कोचों को भी आइसोलेशन कोच बना दिया जाएगा। समस्तीपुर रेलमंडल के 5 स्टेशनों के कोचिंग डिपो में 54 बोगियों को आइसोलेशन वार्ड बनाने का निर्देश मंडल रेल प्रबंधक अशोक माहेश्वरी ने दिया है। वहीं डीआरएम ने बताया कि एक कोच में डॉक्टर-नर्स के अलावा 18 बेड की सुविधा दी गई है। इन कोचों में ऑक्सीजन के लिए भी होल्डर्स लगाए गए हैं। साथ ही चिकित्सा उपकरणों के लिए प्रत्येक डिब्बे में 220 वोल्ट बिजली का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा रेल के हर कोच में एयर प्लास्टिक के पर्दे लगाए जा रहे हैं. साथ ही मिडल बर्थ को हटा दिया गया है। वहीं एक शौचालय में फर्श लगाकर स्नान कक्ष में बदला गया है। स्नान कक्ष में हैंड शॉवर, एक बाल्टी और मग रखा गया है।

Corona virus
Show More
Sharad Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned