राजस्थान सरकार ने घटाया पेट्रोल-डीजल पर वैट

राजस्थान सरकार ने घटाया पेट्रोल-डीजल पर वैट

Veejay Chaudhary | Publish: Sep, 09 2018 08:53:48 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

- चार फीसदी घटाया वैट
- भारत बंद से एक दिन पहले बैकफुट पर राज्य सरकार

- 2.5 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल

जयपुर. देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध झेल रही केंद्र सरकार और भाजपा शासित प्रदेश अब हरकत में आ गए हैं। 10 सितंबर को कांग्रेस के भारत बंद से एक दिन पहले रविवार को राजस्थान सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर वैट की दरों में चार फीसदी की कमी की है, जिससे पेट्रोल और डीजल में 2.50-2.50 रुपए सस्ता हो गया है। कीमतें रविवार रात से लागू हो जाएंगी। फिलहाल राजस्थान में पेट्रोल 83.42 रुपए और डीजल 77.31 रुपए प्रति लीटर है। गौरतलब है कि राजस्थान में डीजल पर 22 फीसदी टैक्स था, जिसे घटाकर 18 फीसदी और पेट्रोल पर 30 फीसदी था, जिसे 26 फीसदी किया गया है। इसके अलावा पेट्रोल पर 1.75 रुपए और डीजल पर 1.5 रुपए रोड सेस भी अतिरिक्त है।

अब भी इन राज्यों से ज्यादा
राजस्थान में टैक्स की दरें अधिकतर राज्यों से ज्यादा हैं। अरुणाचलप्रदेश, असम, बिहार, दिल्ली, गोवा, हरियाणा, हिमाचल, जेएंडके, झारखंड, कर्नाटक, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, ओडि़शा, सिक्किम, त्रिपुरा, यूपी, प. बंगाल में अब भी राजस्थान से कम टैक्स है।

कांग्रेस शासित राज्यों में भी होगा सस्ता
पंजाब और कर्नाटक में पेट्रोल-डीजल जल्दी ही सस्ता हो सकता है। ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी (एआईसीसी) की हिमाचल प्रदेश प्रभारी रजनी पाटिल ने कहा कि कांग्रेस शासित पंजाब और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों को पेट्रोलियम उत्पादों पर मूल्य वर्धित कर (वैट) कम करने के लिए पहले ही कहा जा चुका है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में वीरभद्र सिंह की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने वैट में दो प्रतिशत की कमी की थी।

टैक्स की मार
पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतें लोगों को जो दर्द दे रही हैं उसके लिए कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों से ज्यादा खुद सरकार द्वारा इस पर लगाया जाने वाला भारी-भरकम टैक्स है। केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा वसूला जा रहा ऊंचा उत्पाद शुल्क (एक्साइज) और मूल्य वर्धित कर (वैट) शोधन के बाद रिफाइनरियों से निकलने वाले पेट्रोल और डीजल की कीमतों को आप तक पहुंचते-पहुंचते दो गुना कर देते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned