एफएसएल में 8 हजार जांचें लंबित, आगे भी हालात सुधरने की उम्मीद नहीं

416 में से 206 वैज्ञानिक व तकनीकी पद खाली, कोर्ट के आदेश भी दरकिनार

 

By: Mukesh Sharma

Published: 30 Dec 2018, 10:57 PM IST

मुकेश शर्मा

जयपुर. राज्य विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में लंबित प्रकरणों की संख्या घटने का नाम नहीं ले रही और वैज्ञानिक -तकनीकी विशेषज्ञों के रिक्त पद भरने की कोई कवायद होती नजर नहीं आ रही। ऐसे में गंभीर प्रकरणों में जल्द न्याय मिलने की उम्मीद भी धूमिल हो रही है। सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद एफएसएल में पद नहीं भरे गए, यहां तक की कई पद ऐसे हैं, जो 100 फीसदी रिक्त पड़े हैं। वैज्ञानिक और तकनीकी पद 416 स्वीकृत हैं, लेकिन इनमें 206 पद रिक्त पड़े हैं। वैज्ञानिक सूत्रों के मुताबिक, वर्तमान में एफएसएल विंग में करीब 8000 आपराधिक जांचें लंबित पड़ी हैं।

 

डीपीसी समय पर नहीं, उलझते गए हालात

 

गत सरकार ने सेवानिवृत्त वैज्ञानिक को निदेशक पद पर कई वर्षों तक नियुक्ति दी। इस दौरान समय पर डीपीसी भी नहीं करवाई गई और ना ही पूरी भर्ती प्रक्रिया की गई। यहां पर एडीजी स्तर के आइपीएस अधिकारी को निदेशक पद पर लगाया गया है, जो करीब एक माह के अवकाश के बाद कुछ दिन पहले ही लौटे हैं।

 

यह पद भी पड़े हैं रिक्त

 

राज्य विधि विज्ञान प्रयोगशाला में मंत्रालयिक एवं लेखा संवर्ग और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के कुल 98 पद स्वीकृत हैं, लेकिन इनमें भी 66 पद रिक्त पड़े हैं।

पद ----------- स्वीकृत -------वर्तमान स्थिति----------रिक्त

निदेशक --------- 01 --------- आइपीएस ---------- 01

अति. निदेशक ---- 04 ----------- 00 -------------- 04

उपनिदेशक ------- 05 ------------00 ------------- 05

सहा. निदेशक ----- 39 ------------ 22 ------------- 17

व. वैज्ञानिक अधिकारी --- 77 --------- 39 ----------- 38

व. वैज्ञानिक सहायक ---- 43 --------- 09 ----------- 34

क. वैज्ञानिक सहायक ---- 92 ---------- 51 ---------- 41

मैकेनिक -------------- 01 --------- 00 ----------- 01

तकनीकी सहायक ----- 01 ------------- 00 --------- 01

प्रयोगशाला सहायक ---- 76 ------------- 35 --------- 41

क. प्रयोगशाला सहायक -- 77 ------------- 54 -------- 23

(एफएसएल के मुताबिक, दिसम्बर तक की स्थिति)

Mukesh Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned