सरकार के आदेश से असमंजस की स्थिति, पांच किलो गेहूं नि:शुल्क तो पांच किलो की चुकानी पड़ेगी कीमत

कोरोना काल में प्रदेश के 4.5 करोड़ लोगों को पांच किलो गेहूं नि:शुल्क दिया जाएगा तो वहीं पांच किलो गेहूं के एक से दो रुपए किलो के हिसाब से देने होंगे।

By: kamlesh

Published: 10 Jul 2020, 03:17 PM IST

जयपुर। कोरोना काल में प्रदेश के 4.5 करोड़ लोगों को पांच किलो गेहूं नि:शुल्क दिया जाएगा तो वहीं पांच किलो गेहूं के एक से दो रुपए किलो के हिसाब से देने होंगे। इस फैसले से असमंजस है। सरकार एक तरफ कोरोना में नि:शुल्क अनाज दे रही है, दूसरी तरफ सामान्य परिस्थितियां मानकर मूल्य वसूला जा रहा है।

लॉकडाउन में यह स्थिति
प्रदेश में हर महीने खाद्य सुरक्षा सूची में शामिल करीब 4.5 करोड़ लोगों को सस्ती दर पर गेहूं दिया जा रहा है। इनमें बीपीएल-अन्तोदय परिवारों को 1 रुपए व अन्य श्रेणी वाले परिवारों को 2 रुपए प्रति किलो के हिसाब से पांच किलो गेहूं दिया जाता है। अप्रेल से जून तक गेहूं नि:शुल्क दिया गया। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में पांच किलो अलग से दिया गया। इस प्रकार तीन माह दस-दस किलो नि:शुल्क गेहूं खाद्य सुरक्षा में शामिल गरीबों को मिला।

अब यह स्थिति
हाल ही पीएम ने गरीब कल्याण अन्न योजना को अक्टूबर-नवम्बर तक बढ़ा दिया और इस योजना में अतिरिक्त पांच किलो गेहूं नि:शुल्क दिया जाएगा, लेकिन एनएफएसए के तहत दिया जा रहा गेहूं पहले की तरह 1-2 रुपए प्रति किलो के हिसाब से ही दिया जाएगा। ऐसे में अब दस किलो गेहूं में से पांच किलो के पैसे और पांच किलो नि:शुल्क मिलेगा।

1.11 करोड़ प्रदेश में कुल राशन कार्ड
23.86 लाख बीपीएल राशन कार्ड
6.04 लाख स्टेट बीपीएल
6.61 लाख अन्तोदय
75.32 लाख एपीएल राशन कार्ड

coronavirus

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned