राजस्थान में 16 जिलों में जागी मंत्रिमंडल में जगह मिलने की आस

राज्य में सियासी घमासान टलने के बाद एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार की स्थिति बनने लगी है। इसके साथ ही राज्य के 16 जिलों में मंत्री मिलने की आस भी जाग गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के मौजूदा मंत्रिमंडल में कुल 22 मंत्री हैं।

By: kamlesh

Published: 23 Aug 2020, 03:01 PM IST

जयपुर। राज्य में सियासी घमासान टलने के बाद एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार की स्थिति बनने लगी है। इसके साथ ही राज्य के 16 जिलों में मंत्री मिलने की आस भी जाग गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के मौजूदा मंत्रिमंडल में कुल 22 मंत्री हैं। इसमें मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। गहलोत मंत्रिमंडल में 17 जिलों को प्रतिनिधित्व मिला है। इनमें तीन जिले ही ऐसे हैं, जिनमें एक से अधिक मंत्री हैं। सर्वाधिक जयपुर से 3 मंत्री हैं। बीकानेर, भरतपुर और दौसा से दो-दो मंत्री हैं। शेष 13 जिलों से एक-एक मंत्री हैं।

प्रदेश के सातों संभागों की बात करें तो मंत्रिमंडल में जयपुर संभाग की सबसे बड़ी भागीदारी है। यहां से 7 मंत्री हैं। अजमेर संभाग से अब मात्र 1 मंत्री हैं। दूसरे नंबर पर जोधपुर संभाग है। वहां से मुख्यमंत्री के साथ 4 मंत्री हैं। बीकानेर और कोटा संभाग से तीन-तीन तथा उदयपुर एवं भरतपुर संभाग से दो-दो मंत्री हैं। राज्य में कुल 30 सदस्यों को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है। फिलहाल 22 सदस्य हैं। ऐस में 8 और विधायकों को गहलोत मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है।

17 जिलों की भागीदारी
जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, कोटा, दौसा, चूरू, अजमेर, बांरा, बाड़मेर, चित्तौडगढ़़, जैसलमेर, सीकर, बांसवाड़ा, जालौर, बूंदी, अलवर, भरतपुर

इन जिलों की भागीदारी हुई खत्म
सत्ता संग्राम के दौरान सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद से और रमेश मीना एवं विश्वेन्द्र सिंह को केबिनेट मंत्री के पद से हटा दिया गया। पायलट और मीना को हटाने के साथ ही टोंक एवं करौली की मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी खत्म हो गई। साथ विश्वेन्द्र के हटने से भरतपुर से मंत्रियों की संख्या 3 मंत्री से घटकर 2 रह गई है।

मंत्रिमण्डल विस्तार में चुनौती
मत्रिमंडल विस्तार को लेकर बड़ी चुनौती है। इस विस्तार में संभाग और जिलों की भागीदारी के साथ ही जातिगत और गुटबाजी को साधने के लिए भी भागीदारी तय करने की रणनीति बनानी होगी। इस प्रक्रिया में कुछ का मंत्री पद छिनने और कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल की भी संभावना है।

मंत्रिमण्डल की संभागवार स्थिति

संभाग: जयपुर (7 मंत्री)

मंत्री व विभाग - विधानसभा क्षेत्र - जिला
प्रतापसिंह खाचरियावास (परिवहन) - सिविल लाइंस - जयपुर
लालचंद कटारिया (कृषि) -झोटवाड़ा - जयपुर
राजेन्द्र सिंह यादव (आयोजना) - कोटपूतली - जयपुर
टीकाराम जूली (श्रम) - अलवर ग्रामीण - अलवर
परसादी लाल मीणा (उद्योग) - लालसोट - दौसा
ममता भूपेश (महिला एवं बाल विकास) - सिकराय - दौसा
गोविन्द सिंह डोटासरा (शिक्षा) - लक्ष्मणगढ़ - सीकर

जोधपुर (मुख्यमंत्री व 3 मंत्री)
अशोक गहलोत (मुख्यमंत्री) - सरदारपुरा - जोधपुर
हरीश चौधरी (राजस्व) - बायतू - बाड़मेर
शाले मोहम्मद (अल्पसंख्यक मामलात) - पोकरण - जैसलमेर
सुखराम विश्नोई (वन विभाग) - सांचौर - जालौर

बीकानेर
बी.डी. कल्ला (ऊर्जा व जलदाय) - बीकानेर पश्चिम - बीकानेर
भंवरलाल मेघवाल (सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता) - सुजानगढ़ - चूरू
भंवर सिंह भाटी (उच्च शिक्षा) - कोलायत - बीकानेर

कोटा
शांति कुमार धारीवाल (नगरीय विकास) - कोटा उत्तर - कोटा
प्रमोद भाया (खान) - अंता - बांरा
अशोक चांदना (युवा एवं खेल) - हिण्डौली - बूंदी

भरतपुर
सुभाष गर्ग (तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा) - भरतपुर - भरतपुर
भजनलाल जाटव (गृह रक्षा एवं नागरिक सुरक्षा) - वैर - भरतपुर

उदयपुर (2 मंत्री)
अंजना उदयलाल (सहकारिता) - निम्बाहेड़ा - चित्तौडगढ़़
अर्जुन सिंह बामनिया (जनजाति क्षेत्रयीय विकास) - बांसवाड़ा - बांसवाड़ा

अजमेर (1 मंत्री)
रघु शर्मा (चिकित्सा) - केकड़ी - अजमेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned