राजस्थान विधानसभा: तेज़ बरसात में फंसी रह गई विधायकों की बस, शोकाभिव्यक्ति के बाद दोपहर 1 बजे तक कार्यवाही स्थगित

राजस्थान विधानसभा का पांचवा सत्र आज से शुरू हुआ। पिछले एक माह से चल रहे सियासी घमाासन के चलते सत्र हंगामेदार रहने के आसार हैं। एक ओर शहर में सुबह से बादल जमकर बरस रहे हैं तो दूसरी ओर सदन के हंगामेदार होने की पूरी संभावना है।

By: nakul

Published: 14 Aug 2020, 12:07 PM IST

जयपुर।

राज्य विधानसभा की कार्यवाही शोकाभिव्यक्ति के बाद दोपहर एक बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले विधानसभा अध्यक्ष के सदन में प्रवेश के साथ ही सुबह ठीक 11 बजे कार्यवाही शुरू हुई। सबसे पहले सभी ने अपनी-अपनी सीटों पर खड़े रहकर एक सुर में वन्देमातरम गीत का गान किया। इसके बाद शोकाभिव्यक्ति हुई और फिर स्पीकर ने सदन को दोपहर एक बजे तक के लिए स्थगित कर दिया।

सत्र के पहले दिन विधायकों की बैठक व्यवस्था भी बदली-बदली सी नज़र आई। हालाँकि सदन के शुरू होने के दौरान कई विधायक सीटों पर उपस्थित नहीं दिखाई दिए। दरअसल, कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों की एक बस शहर में तेज़ बरसात होने के कारण बीच रास्ते में ही फंस गई थी। जिस वजह से वे निर्धारित समय पर सदन में नहीं पहुँच सके।

इधर सदन की कार्रवाही से पहले कांग्रेस ने विशवास प्रस्ताव के सम्बन्ध में स्पीकर को नोटिस पेश किया है। वहीं दूसरी ओर नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया की अध्यक्षता में भाजपा विधायक दल की बैठक ना पक्ष लॉबी में हुई। बैठक में सदन में पार्टी की रणनीति को लेकर मंथन हुआ।



शोकाभिव्यक्ति में इन्हें दी गई श्रद्धांजलि
विधानसभा सदन में आज दिवंगत नेताओं को शोकाभिव्यक्ति के ज़रिये श्रद्धांजलि दी गई। इनमें मध्यप्रदेश के पूर्व राज्यपाल लालजी टंडन, मिजोरम, मणिपुर और झारखंड के पूर्व राज्यपाल वेद मारवाह, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवाजीराव पाटील निलांगेकर को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। वहीं, विधानसभा के पूर्व सदस्य भंवरलाल शर्मा, बजरंग लाल शर्मा, हनुमान सहाय व्यास को भी श्रद्धांजलि दी गई। इनके अलावा लद्दाख के गलवान सेक्टर में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के लिए मौन भी रखा गया।

हंगामेदार चलेगा सदन

राजस्थान विधानसभा का पांचवा सत्र आज से शुरू हुआ। पिछले एक माह से चल रहे सियासी घमाासन के चलते सत्र हंगामेदार रहने के आसार हैं। एक ओर शहर में सुबह से बादल जमकर बरस रहे हैं तो दूसरी ओर सदन के हंगामेदार होने की पूरी संभावना है। भाजपा पर सरकार गिराने की साजिशों का आरोप लगाते हुए कांग्रेस सदन में भाजपा को घेरेगी। वहीं भाजपा ने भी कोरोना प्रबंधन और बाड़ाबंदी को लेकर सरकार को घेरने की ऱणनीति तैयार की है।

वहीं आज सदन में सरकार की ओर से विश्वास प्रस्ताव लेकर आएगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को इसके संकेत दिए थे। भाजपा भी आज अविश्वास प्रस्ताव लेकर आएगी। हालांकि विश्वास प्रस्ताव विधानसभा सत्र की कार्यसूची में सूचीबद्ध नहीं किया गया है। बताया जाता है कि विधानसभा में सत्र शुरू होते ही स्पीकर सीपी जोशी विश्वास प्रस्ताव और अविश्वास प्रस्ताव की व्यवस्था दे सकते हैं, जिसमें सदन में बहस के बाद फ्लोर टेस्ट कराया जा सकता है।

कोविड - 19 पर चर्चा
वहीं विधानसभा की कार्यवाही के दौरान आज आधा दर्जन से ज्यादा विधेयक सदन की मेज पर रखे जा रहे हैं। संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल इन विधेयकों को सदन की मेज पर रखेंगे। इनमें राजस्थान महामारी अध्यादेश 2020, राजस्थान कृषि उपज मंडी संशोधन अध्यादेश 2020, राजस्थान माल और सेवा कर संशोधन अध्यादेश 2020, राजस्थान स्थान संशोधन अध्यादेश 2020 हैं। इसके अलावा राजस्थान महामारी संशोधन 2020, राजस्थान आबकारी संशोधन अध्यादेश 2020, राजस्थान माल और सेवा कर संशोधन 2020, राजस्थान पुलिस संशोधन अध्यादेश 2020 हैं। वहीं सदन में कोविड 19 प्रबंधन और लॉकडाउन से उपजे आर्थिक हालातों पर भी सदन में चर्चा होगी। पक्ष-विपक्ष के सदस्य लॉकडाउन और आर्थिक स्थिति को लेकर अपने-अपने सुझाव देंगे।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned