विधानसभा सत्र कल से, सीएए के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी सरकार

पंजाब और केरल विधानसभा में सीएए के खिलाफ प्रस्ताव पारित हो चुका है। अब राजस्थान सरकार भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव ला रही है। यह सत्र 24 और 25 जनवरी को चलेगा। सत्र के दौरान सीएए पर चर्चा की जाएगी और इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित किया जाएगा। सत्र हंगामेदार रहने की संभावना है, क्योंकि विपक्ष यानि भाजपा सीएए के लिए समर्थन जुटा रही है।

जयपुर।

पंजाब और केरल विधानसभा में सीएए के खिलाफ प्रस्ताव पारित हो चुका है। अब राजस्थान सरकार भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव ला रही है। यह सत्र 24 और 25 जनवरी को चलेगा। सत्र के दौरान सीएए पर चर्चा की जाएगी और इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित किया जाएगा। सत्र हंगामेदार रहने की संभावना है, क्योंकि विपक्ष यानि भाजपा सीएए के लिए समर्थन जुटा रही है।

दो दिन तक सदन की कार्यवाही चलेगी, जिसमें अनुसूचित जाति एवं जनजाति के आरक्षण को 10 साल तक बढ़ाने के लिए 126वें संविधान संशोधन विधेयक 2019 पर मुहर लगाई जाएगी। उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि राज्यपाल के अभिभाषण के साथ सत्र की शुरुआत होगी। दो दिन कार्यवाही चलेगी। इसके बाद सत्र को कुछ दिन के लिए स्थगित किया जाएगा और यही सत्र बजट सत्र के रूप में आगे तक चलेगा। पायलट ने कहा कि हम चाहते हैं कि जो कानून पारित हुआ है, उस पर पुनर्विचार हो।

केंद्र सरकार सुनने को तैयार नहीं

पायलट ने कहा कि लोकतंत्र में सभी को विरोध करने का अधिकार है। लेकिन विरोध करने वाले को देशद्रोही बोला जाए, उससे संवाद नहीं किया जाए। यह गलत है, विरोधियों को संज्ञान में लेकर कार्रवाई नहीं करते हैं तो लोकतंत्र कमजोर होता है। नौजवान इस कानून के विरोध में अपनी बात रख रहे हैं। आप मानें नहीं माने, लेकिन बात को सुननी चाहिए। कई राज्य सुप्रीम कोर्ट गए हैं। अंतिम निर्णय सुप्रीम कोर्ट ही करेगा।

CAA
Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned