scriptRajasthan BJP Chief satish Poonia compares Ashok Gehlot Bahadur Shah | राजस्थान : जन्मदिन से पहले Ashok Gehlot पर Satish Poonia का बड़ा बयानी हमला, बहादुर शाह जफर से कर डाली तुलना | Patrika News

राजस्थान : जन्मदिन से पहले Ashok Gehlot पर Satish Poonia का बड़ा बयानी हमला, बहादुर शाह जफर से कर डाली तुलना

- गहलोत सरकार के खिलाफ भाजपा का 'हल्ला बोल' - 'पैनी' हो रही भाजपा नेताओं के बयानों की 'धार'!- जन्मदिन से ठीक पहले गहलोत पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का 'वार' - बहादुर शाह ज़फर से कर डाली गहलोत की तुलना - तुष्टिकरण का आरोप लगाते हुए पूनिया का बयान



जयपुर

Published: May 02, 2022 12:02:19 pm

जयपुर।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के 3 मई को जन्मदिन से ठीक पहले भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने उन्हें कांग्रेस का बहादुर शाह ज़फर का तमगा देकर बड़ा बयानी हमला बोला है। रविवार को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक कार्यक्रम में शामिल हुए डॉ पूनिया ने मीडिया से दौरान मुख्यमंत्री और राजस्थान सरकार को जमकर कोसा।

Rajasthan BJP Chief satish Poonia compares Ashok Gehlot Bahadur Shah

'तुष्टिकरण की राजनीति कर रही सरकार'
डॉ पूनिया ने आरोपों के आधार में कहा कि राजस्थान में रामनवमी व हिन्दू नववर्ष के जुलूसों पर कांग्रेस सरकार पाबंदी लगाती है, 17 जिलों में धारा 144 लगाई जाती है और बहुसंख्यकों को डराया जाता है। भाजपा व सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं पर 116 और 107 की पाबंद की कार्रवाई की जाती है। करौली सहित प्रदेश के कई जिलों की घटनाओं पर कम्यूनल तरीके से तुष्टिकरण की राजनीति की जाती है।ऐसा लगता है कि अशोक गहलोत राजस्थान में कांग्रेस के बहादुर शाह जफर साबित होंगे। वर्ष 2023 और इसके बाद कभी भी राजस्थान में कांग्रेस की सत्ता में वापसी की कोई गुंजाइश नहीं बचेगी।

'कमज़ोर किया जा रहा बहुसंख्यकों का मनोबल'
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि अलवर के राजगढ़ में 300 साल पुराने मंदिर को तोड़ा गया, इस तरह से राजस्थान में बहुसंख्यकों को डरा धमकाकर मनोबल कमजोर किया जा रहा है और अल्पसंख्यक वोट बैंक के लिये तुष्टीकरण की राजनीति की जा रही है। प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अपनी कुर्सी बचाने की चिंता ज्यादा है, जन सुरक्षा की कोई चिंता नहीं है l

'सरकार के खिलाफ एंटी इनकंबेंसी'
पूनिया ने कहा कि कांग्रेस सरकार के खिलाफ बड़ी एंटी इनकंबेंसी है और भाजपा संगठन की प्रदेश में अपनी खूबी है कि नीचे तक ग्रास रूट तक संगठनात्मक मजबूती के कार्य हो रहे हैं और लगातार सड़क से लेकर सदन तक जनहित के मुद्दों को उठाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था सहित प्रदेश के विभिन्न जनहित के मुद्दों को लेकर भाजपा आगामी 5 मई को अलवर से बड़े आंदोलन की शुरुआत करेगी और प्रदेश के सभी जिलों में यह आंदोलन होंगे l

'रोज़गार के दावे-वादे कागज़ी'
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस ने चुनावी जनघोषणा पत्र 2018 में वादा किया था कि सत्ता में आएंगे तो बेरोजगारों को भत्ता देंगे। देना था 30 लाख को, दे रहे हैं 4 लाख 11 हजार को। इसमें भी इंटर्नशिप का बैरियर लगा दिया, जिसको युवाओं ने नकार दिया। यह योजना सिर्फ कागजी बनकर रह गई। राजस्थान में सर्वाधिक बेरोजगारी दर 32.3% देश में सबसे अधिक है। मुख्यमंत्री द्वारा घोषित भर्तियां भी अभी तक पूरी नहीं हो पाई हैं जबकि जो भर्तियां निकाली गई हैं उनमें से ज्यादातर के पेपर लीक हुए हैं। रीट पेपर लीक मामला तो कांग्रेस सरकार के संरक्षण में महाघोटाला है, जिसकी सीबीआई जांच हो जाए तो कांग्रेस सरकार में शीर्ष पदों पर बैठे तमाम लोग जेल की सलाखों के पीछे होंगे।

'तीन-चौथाई बहुमत बनेगी भाजपा सरकार'

राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने एक बार फिर प्रदेश में तीन-चौथाई बहुमत के साथ भाजपा सरकार बनाने का दावा किया है। उन्होंने प्रदेश में भाजपा संगठन जमीनी तौर पर बहुत अच्छा कार्य कर रहा है, जिसे लेकर कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राजस्थान भाजपा इकाई के सेवा कार्यों की सराहना की और कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में एक बार फिर राजस्थान में भाजपा को सरोकारों की पार्टी बनाने के लिए संकल्पित हैं।


पूनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा, उनका नाम और उनके काम देश एवं प्रदेश में हमारे दल के लिए पर्याप्त हैं और और मोदी के चेहरे और काम पर ही राजस्थान में भाजपा 2023 का चुनाव लड़ेगी और तीन चौथाई बहुमत के साथ भाजपा की सरकार बनेगी।

'चिंता करने की ज़रुरत कांग्रेस को'
डॉ पूनिया ने कहा कि राजस्थान में होने शिविर को कांग्रेस ने चिंतन शिविर नाम दिया है, लेकिन मुझे लगता है कि कांग्रेस को चिंता करने की जरूरत है, 1885 की कांग्रेस देश के नक्शे से सिमटती जा रही है, लोगों ने उसको व्यवहार और सिद्धांत से नकार दिया है। दो ही प्रदेश बचे हैं छत्तीसगढ़ व राजस्थान, इनमें भी कांग्रेस पार्टी कहीं धरातल पर भी नहीं है और ना ही शीर्ष पर दिखती है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 में कांग्रेस अपनी खूबियों से सत्ता में नहीं आई, बहुत कम ही मार्जिन रहा। 12 सीटों पर तो चार सौ से 1 हज़ार वोटों तक का ही अंतर रहा। लिहाज़ा कांग्रेस राजस्थान में बाय डिफॉल्ट सत्ता में आई, भाजपा जब राजस्थान में आई तो 163 सीटें लेकर आई और जब कांग्रेस सत्ता में आई तो एक बार उनकी 95 और एक बार 99 सीटें आई। जब हम विपक्ष में आए तो एक बार 79 और एक बार 72 और जब कांग्रेस विपक्ष में आती है, तो एक बार 56 और दूसरी बार 21 सीटें आई और इस बार 21 से माइनस करके देखेंगे तो टैंम्पो लाइक सवारी ही बचेंगी l

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.