राजस्थान: 'राजे-पूनिया' गुटबाजी की अटकलों के बीच जुटेगा BJP कोर ग्रुप, जयपुर में जुटेंगे 'दिग्गज'

प्रदेश भाजपा कोर ग्रुप की कल होगी पहली बैठक, केंद्रीय नेतृत्व ने कल ही घोषित किया है कोर ग्रुप, 16 सदस्यीय कोर ग्रुप का किया गया है गठन, 12 स्थाई जबकि 4 विशेष आमंत्रित सदस्य हैं ग्रुप में, पूनिया-राजे समेत कई वरिष्ठ नेताओं को किया गया है शामिल

 

By: nakul

Published: 23 Jan 2021, 01:09 PM IST

जयपुर

प्रदेश भाजपा से जुड़े तमाम शीर्ष नेताओं का कल जयपुर में जमावड़ा रहेगा। दरअसल कल पार्टी मुख्यालय में वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी वाली कोर ग्रुप की बैठक बुलाई गई है। विधानसभा सत्र से पहले और चुनावी सरगर्मियों के बीच बुलाई जा रही ये बैठक बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है। इसमें शामिल तमाम दिग्गज नेता विभिन्न मसलों पर साथ बैठक चर्चा करेंगे और आने वाले दिनों में पार्टी की स्थिति और मजबूत करने की दिशा में रणनीति बनायेंगे।


प्रभारी-सह प्रभारी पहली बार होंगे साथ
कोर ग्रुप की बैठक में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह और सह प्रभारी भारती शियाल भी मौजूद रहेंगे। ये पहली बार होगा जब प्रभारी और सह प्रभारी नियुक्त होने के बाद दोनों नेता साथ बैठकर प्रदेश संगठन स्तर की बैठक में हिस्सा लेंगे। इससे पहले प्रभारी के नाते अरुण सिंह पिछले दिनों राजस्थान प्रवास पर रह चुके हैं, लेकिन सह प्रभारी बनने के बाद भारती शियाल का ये पहला प्रवास कार्यक्रम रहेगा।


गौरतलब है कि अरुण सिंह और भारती शियाल को कोर ग्रुप में विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर शामिल किया गया है। अरुण सिंह राज्य सभा सांसद होने के साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव भी हैं, जबकि भारती शियाल भी गुजरात के भावनगर से लोकसभा सांसद और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं।


राजे-पूनिया होंगे साथ, रहेगी सभी की नज़र
कोर ग्रुप की बैठक के दौरान सभी की नज़रें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया और पूव मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की साथ मौजूदगी पर रहेगी। दोनों नेता लम्बे समय बाद किसी बैठक में साथ नज़र आयेंगे।


गुटबाजी की अटकलें बनी सुर्खियाँ
प्रदेश भाजपा में गुटबाजी की अटकलों ने पिछले दिनों खूब सुर्खियां बटोरीं। खासतौर से पार्टी अध्यक्ष सतीश पूनिया और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के समर्थकों के बीच वर्चस्व की लड़ाई खुलकर सामने आती नज़र आई। दोनों नेताओं के कथित गुटों का पार्टी के बैनर से दूर अपनी-अपनी अलग टीमें गठित करने की बातों ने गुटबाजी को तूल दिया।


वहीं राजे की गैर मौजूदगी में सतीश पूनिया, गुलाब चंद कटारिया और राजेन्द्र राठौड़ की ‘तिकड़ी’ का दिल्ली जाकर राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात के बाद भी कयास लगाए जाने लगे की पार्टी के अंदरखाने कुछ तो गड़बड़झाला चल रहा है। हालांकि हर बार की तरह इन अटकलों को भी तमाम नेता कोरी अफवाह करार देते भी बचते दिखाई दिए हैं।

आज पहुंचेंगे सिंह-शियाल

भाजपा कोर ग्रुप की कल होने वाली बैठक में शामिल होने के लिए प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह और सह प्रभारी भारती शियाल आज देर शाम तक जयपुर पहुंच जायेंगे। बैठक कल शाम 4 बजे होगी। इससे पहले अरुण सिंह दोपहर 12 बजे प्रेस से रु-ब-रु होंगे जबकि दोपहर 1 बजे अन्य संगठनात्मक बैठक में भी शामिल होंगे।

 

12 स्थाई, 4 आमंत्रित सदस्य

राजस्थान भाजपा की प्रदेश कोर कमेटी में 12 स्थायी और 4 विशेष आमंत्रित सदस्यों को शामिल किया गया है। केंद्रीय नेतृत्व की ओर से जारी सूची के अनुसार 12 सदस्यों में पार्टी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया, पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, राज्यसभा सांसद ओम प्रकाश माथुर, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, प्रतिपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी के साथ ही राज्यसभा सांसद राजेंद्र गहलोत और सांसद कनकमल कटारा और सीपी जोशी को शामिल किया गया है।

वहीं चार विशेष आमंत्रित सदस्यों में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, राजस्थान से राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव, राजस्थान की सह प्रभारी भारती बैन शियाल के साथ ही पार्टी की राष्ट्रीय सचिव अलका सिंह गुर्जर को बतौर विशेष आमंत्रित सदस्य इस कोर ग्रुप में शामिल किया गया है।

हर माह एक बार कोर कमेटी की बैठक करने के निर्देश

प्रदेश भाजपा कोर कमेटी के गठन के साथ ही पार्टी आलाकमान ने महीने में कम से कम एक बार कोर ग्रुप के सदस्यों की बैठक करने के निर्देश दिए गए हैं। इस बैठक में प्रदेश से जुड़े ज्वलंत विषय और संगठनात्मक गतिविधियों पर चर्चा करने की बात कही गई है। पूनिया फिलहाल राजसमंद और सहाड़ा विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के सिलसिले में प्रवास पर हैं।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned