scriptRajasthan BJP dontion collection campaign latest news and updates | BJP कार्यकर्ताओं की नई मुसीबत! Corona-महंगाई से आमजन का 'धंधा' मंदा, फिर घर-घर से कैसे वसूलेंगे 'चंदा'? | Patrika News

BJP कार्यकर्ताओं की नई मुसीबत! Corona-महंगाई से आमजन का 'धंधा' मंदा, फिर घर-घर से कैसे वसूलेंगे 'चंदा'?

Rajasthan BJP dontion collection campaign - भाजपा का 'आजीवन सहयोग निधि' अभियान, कार्यकर्ताओं के लिए गलफांस बन रहा अभियान! कोरोना काल के दौरान कैसे वसूलेंगे पार्टी फंड चंदा ? महंगाई से बिगड़ा आमजन का बजट, बढ़ी हुई है नाराज़गी, सोशल मीडिया पर चल रहा 'बॉयकॉट भाजपा' कैंपेन

 

जयपुर

Published: December 27, 2021 01:41:02 pm

जयपुर।

भारतीय जनता पार्टी ( Bhartiya Janta Party ) की ओर से देश भर में शुरू हुआ 'आजीवन सहयोग निधि' अभियान ( Donation Campaign ) खुद पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए गलफांस बनता दिख रहा है। दरअसल, कार्यकर्ताओं के सामने सबसे बड़ी चिंता इस बात की सता रही है कि वे आखिर इस कोरोना-ओमीक्रॉन ( Corona - Omicron ) बीमारियों के साथ ही कमर तोड़ महंगाई ( Inflation ) के दौर में लोगों से किस मुंह से चंदा वसूली कर पाएंगे? हालांकि कार्यकर्ताओं की ये पीड़ा फिलहाल पार्टी गलियारों तक ही सीमित है। इस बीच ना तो कोई कार्यकर्ता इस बारे में खुलकर अपनी नाराज़गी प्रकट कर पा रहा है और ना ही कोई शीर्ष स्तर का नेता कोई प्रतिक्रिया ही दे पा रहा है।

Rajasthan BJP dontion collection campaign latest news and updates

गौरतलब है कि भाजपा का 'निधि संग्रहण' अभियान पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती 25 दिसंबर से शुरू हुआ है जो अगले साल पंडित दीनदयाल की पुण्यतिथि 11 फरवरी तक जारी रहेगा। इस दौरान कार्यकर्ताओं को ना सिर्फ स्वयं भी पार्टी फंड में योगदान देना होगा, बल्कि घर-घर दस्तक देकर आमजन के बीच जाकर आर्थिक सहयोग की भी अपील करनी होगी।

सोशल मीडिया पर 'बॉयकॉट बीजेपी' कैंपेन
देश ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे बड़ी राजनितिक पार्टी होने का दावा करने वाली भाजपा के 'निधि संग्रहण' अभियान का शुरू होने के साथ ही विरोध होना भी शुरू हो गया है। खासतौर पर भाजपा विरोधियों ने तो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर इस अभियान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

भाजपा फंड में अंशदान नहीं करने को लेकर बाकायदा हैशटैग 'भाजपा बॉयकॉट' के नाम से कैम्पेन तक चलाया गया है। इसमें प्रतिद्वंदी दलों के नेता-कार्यकर्ताओं के साथ ही आमजन का एक तबका भी भाजपा के अभियान के विरोध में उतर आया है। इस कैंपेन में जहां चंदा नहीं देने का संकल्प लिया जा रहा है, तो वहीं अन्य लोगों से भी अपना अंशदान नहीं करने की अपील भी की जा रही है।

'नाराज़गी' से निपटना बड़ी चुनौती
घर-घर दस्तक देकर पार्टी फंड के लिए निधि एकत्रित करना भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए आसान नहीं होगा। दरअसल, कोरोना काल और ऊपर से चौतरफा महंगाई से बिगड़ा हर घर का बजट, लोगों की नाराज़गी का कारण बना हुआ है। ऐसे में चन्दा वसूली के लिए फील्ड में उतरे कार्यकर्ताओं को जगह-जगह लोगों की नाराज़गी से भी निपटना पड़ सकता है।

कहीं कार्यकर्ताओं तक ही सीमित रहेगा अभियान!
पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती 25 दिसंबर से शुरू हुए 'आजीवन निधि सहयोग' अभियान के शुरुआती दो दिन तो पार्टी के नेता-कार्यकर्ता ही अंशदान करते देखे गए हैं। ऐसे में अब जल्द ही कार्यकर्ता घर-घर दस्तक देकर आमजन से भी चंदा वसूलना शुरू करेंगे। देखना ये है कि भाजपा फंड में धनराशि एकत्रित करने के लिए चलाये जा रहे इस अभियान को आमजन का कैसा रिस्पांस मिलता है। चर्चा इस बात की भी हो रही है कि कहीं ये अभियान पार्टी कार्यकर्ताओं तक ही सीमित ना रह जाए।

पूनिया-चंद्रशेखर ने की अपील
इधर कार्यकर्ताओं की 'अंदरखाने' चल रही चिंताओं के बीच भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने आमजन से इस अभियान के साथ जुड़ने की अपील की है। उन्होंने भाजपा को मजबूत बनाने में योगदान के ज़रिये राष्ट्र निर्माण में भूमिका निभाने की बात कही है।

वहीं प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर ने भी कहा है कि 'दल जैसा बनाएंगे, वैसा ही देश बनेगा'। भाजपा में चार 'क’- कार्यकर्ता, कार्यक्रम, कार्यालय व कोष का महत्व है, इसलिए शुचिता के आधार पर आजीवन सहयोग-निधि अभियान चलाया जा रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: पढ़ें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 10 जोशीले अनमोल विचारCG-महाराष्ट्र सीमा पर चेकिंग में लगे पुलिस जवानों से मारपीट, कोरोना जांच पूछा तो गाली देते हुए वाहन सवार टूट पड़े कांस्टेबल परसरकार का बड़ा फैसला, नई नीति में आमजन व किसानों को टोल टैक्स से छूटछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 11 कोरोना मरीजों की मौत, दुर्ग में सबसे ज्यादा 4 संक्रमितों की सांसें थमी, ज्यादातार वे जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगाया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.