शिकायतों का निपटारा नहीं हुआ तो मुख्यमंत्री से करेंगे शिकायत

कांग्रेस ( Rajasthan Congress ) ने कार्यकर्ताओं और आमजन की समस्याओं ( Not Redress of grievances ) को दूर करने के लिहाज से पीसीसी में जनसुनवाई का कार्यक्रम तय किया था, लेकिन 20 प्रतिशत शिकायतें आज भी लंबित पड़ी हैं।

तो मुख्यमंत्री से करेंगे शिकायत

जयपुर।
पीसीसी में हुई जन सुनवाई में लोगों का रुझान बढ़ने लगा है। दिनोंदिन में परिवेदनाएं लेकर पहुंचने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। मगर इन शिकायतों के निपटारे में अब देरी होने लगी है। यही नहीं कई मंत्रियों और विधायकों को भेजी गई परिवेदनाओं पर कोई कर्रवाई नहीं की है। इसे लेकर भी मंत्रियों के समक्ष शिकायतें आ रही हैं।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने कहा है कि जनसुनवाई में आने वाली ज्यादातर शिकायतों का निस्तारण हो चुका है। हमने रिव्यू किया था, जिसमें 20 प्रतिशत शिकायतें पेंडिंग पड़ी हैं। इसे लेकर विभागों के अधिकारियों को पत्र चिट्ठी लिखी थी। कुछ ने जवाब भेज दिया है। कुछ अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं। इसे लेकर मंत्रियों को चिट्ठी भेजी हैं। मंत्रियों के जवाब का इंतजार कर रहे हैं। अगर जवाब नहीं आता है तो सीएम को मामले से अवगत कराएंगे।

600 परिवेदनाएं आई
परिवेदनाओं की बात की जाए तो अब तक की सर्वाधिक परिवेदनाएं रमेश मीणा की जनसुनवाई के दौरान आई। बताया जा रहा है कि करीब 600 परिवेदनाएं एक ही दिन में पीसीसी में आई। इससे पहले यूडीएच मंत्री शंति धारीवाल की जनसुनवाई के समय 185 और परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास की जनसुनवाई में 145 परिवेदनाएं आई थी।

Umesh Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned